Wednesday , May 24 2017
Home / Mumbai / कांग्रेस की ओर से शिवसेना को समर्थन देने का सवाल ही पैदा नहीं होता: नसीम खान

कांग्रेस की ओर से शिवसेना को समर्थन देने का सवाल ही पैदा नहीं होता: नसीम खान

मुंबई: महाराष्ट्र प्रदेश कांग्रेस कमेटी के उपाध्यक्ष और अल्पसंख्यक मामलों के पूर्व मंत्री मोहम्मद आरिफ नसीम खान ने आज मुंबई नगर निगम में कांग्रेस की ओर से शिवसेना का समर्थन किए जाने की खबरों को निराधार बताते हुए कहा है कि यह उत्तर प्रदेश चुनाव के मद्देनजर भाजपा और आरएसएस की ओर से फैलाई जाने वाली एक अफवाह है. कांग्रेस हमेशा सांप्रदायिक शक्तियों से संघर्षरत रही है, राज्य के किसी भी हिस्से में किसी भी सांप्रदायिक पार्टी की किसी भी कीमत पर समर्थन का सवाल ही पैदा नहीं होता.

Facebook पे हमारे पेज को लाइक करने के लिए क्लिक करिये

प्रदेश 18 के अनुसार, कल चुनावी समीक्षा के लिए महाराष्ट्र कांग्रेस के उच्च नेताओं की एक बैठक हुई थी, जिसमें महाराष्ट्र प्रदेश के अध्यक्ष और पूर्व मुख्यमंत्री अशोक चव्हाण, पूर्व प्रदेश अध्यक्ष माणिक राव ठाकरे, पूर्व मुख्यमंत्री नारायण राणे, मुंबई कांग्रेस के अध्यक्ष संजय निरूपम और मोहम्मद आरिफ नसीम खान उपस्थित थे, जिसके तुरंत बाद मीडिया में यह खबर चल पड़ी कि मुंबई नगर निगम में मेयर पद के लिए कांग्रेस शिवसेना का समर्थन कर सकती है. और इसके बदले में शिवसेना ने कांग्रेस को डिप्टी मेयर का पद देने की पेशकश की है. इस खबर के सामने आने से कांग्रेसी हलकों में चिंता फ़ैल गई.
आरिफ नसीम खान ने कहा कि कांग्रेस के पूरी इतिहास सांप्रदायिकता के खिलाफ लड़ाई से लिखी है, हमारे युवा नेता राहुल गांधी आरएसएस को महात्मा गांधी का हत्यारा करार देते हैं, जिसका मुकदमा भिवंडी अदालत में जारी है. कांग्रेस एक धर्मनिरपेक्ष पार्टी है और धर्मनिरपेक्षता के आधार पर ही निर्णय होते हैं. ऐसे में यह संभव ही नहीं है कि कांग्रेस किसी सांप्रदायिक पार्टी का समर्थन करे. उन्होंने कहा कि जिस बैठक के बाद उक्त अफवाह मीडिया में आई इस बैठक में मैं भी मौजूद था और इसमें जिला परिषद में राकांपा के समर्थन का फैसला हुआ है, जबकि शिवसेना के समर्थन का कोई फैसला नहीं हुआ. इसके बावजूद मीडिया में यह खबर आई कि कांग्रेस शिवसेना का समर्थन कर सकती है. यह सरासर एक अफवाह है और उसकी कोई सच्चाई नहीं है. उन्होंने कहा कि इस तरह की अफवाह आरएसएस और भाजपा की ओर से फैलाई गई है ताकि इसका फायदा उत्तर प्रदेश के चुनाव में उठाया जा सके जहां सभी वर्गों के धर्मनिरपेक्ष मतदाताओं में कांग्रेस पहली पसंद बनी हुई है. सांप्रदायिक दल इस तरह की अफवाह फैलाकर आम धर्मनिरपेक्ष लोगों को कांग्रेस से शंकित करना चाहती हैं लेकिन उनकी साजिश कभी सफल नहीं होगी.
आरिफ नसीम खान ने कहा कि कांग्रेस किसी सांप्रदायिक पार्टी का समर्थन तो दूर उस पर विचार भी नहीं कर सकती. हम धर्मनिरपेक्षता के आधार पर जनता के बीच जाते हैं और उस पर कायम रहते हैं.

Top Stories

TOPPOPULARRECENT