Friday , October 20 2017
Home / District News / काबीना में तौसीअ के मौक़ा पर मुस्लमान फिर नजरअंदाज़

काबीना में तौसीअ के मौक़ा पर मुस्लमान फिर नजरअंदाज़

करीमनगर, १० फ़रवरी ( सियासत डिस्ट्रिक्ट न्यूज़ ) आंधरा प्रदेश के वज़ीर-ए-आला किरण कुमार रेड्डी ने फ़रवरी को आला क़ियादत की इजाज़त पर अपनी काबीना में फिर एक बार तौसीअ की है जिस में इलाक़ा आंधरा से एक रुकन को शामिल किया गया है लेकिन इस में मु

करीमनगर, १० फ़रवरी ( सियासत डिस्ट्रिक्ट न्यूज़ ) आंधरा प्रदेश के वज़ीर-ए-आला किरण कुमार रेड्डी ने फ़रवरी को आला क़ियादत की इजाज़त पर अपनी काबीना में फिर एक बार तौसीअ की है जिस में इलाक़ा आंधरा से एक रुकन को शामिल किया गया है लेकिन इस में मुस्लमानों को शामिल करने की ज़हमत गवारा नहीं की। जबकि दो मुस्लिम अरकान असेंबली मसरस मस्तान वली और शाह जहां आंधरा से नुमाइंदगी करते हैं।शरीफ़ाना मुआहिदा के मुताबिक़ ये तए है कि एक मुस्लिम वज़ीर तेलंगाना से और एक आंधरा से हुकूमत में शामिल किया जाना चाहिये।

फ़िलहाल तेलंगाना से तो कोई रुकन असेंबली मुस्लमान कांग्रेस में नहीं है सिर्फ आनध्राई इलाक़ा से ही हैं, सिर्फ एक रुकन को ओहदा वज़ारत पर फ़ाइज़ किया गया है लेकिन उन्हें ग़ैर अहम क़लमदान हवाले किया गया है, जनाब अहमद उल्लाह उर्दू से नावाक़िफ़ हैं लेकिन अक़ल्लीयती बहबूद का क़लमदान उन के हवाले किया गया है। कांग्रेस मुस्लमानों की वाहिद हक़ीक़ी हमदर्द होने का दावा करती है लेकिन अमल इस के बरअक्स है।

मुस्लमानों की आबादी आंधरा प्रदेश में तक़रीबन 16फ़ीसद है लेकिन हुकूमत में इन की नुमाइंदगी सिर्फ एक फ़ीसद है। मुफ़्ती नदीम उद्दीन सिद्दीक़ी तर्जुमान अहलसन्नत अल जमाअत ज़िला करीमनगर ने सख़्त तन्क़ीद करते हुए कहा कि कापू, रेड्डी, एससी, एसटी, ब्रह्मणों को उन की आबादी के तनासुब से कहीं ज़्यादा उन्हें नुमाइंदगी का मौक़ा फ़राहम किया जा रहा है।

रेड्डी तबक़ा की आबादी 2 फ़ीसद है जबकि इस तबक़ा के 12वुज़रा हैं। मौलाना मुफ़्ती नदीम सिद्दीक़ी ने कहा कि राहुल गांधी यू पी में मुस्लमानों के वोट हासिल करने के लिए हर तरह का वायदा कर रहे हैं, उन्हें चाहीए कि किरण कुमार रेड्डी को हिदायत दें कि वो अपनी काबीना में दो मुस्लिम वुज़रा को शामिल करें। मुस्लिम तंज़ीमों को चाहीए कि हुकूमत के इस इक़दाम के ख़िलाफ़ सख़्त एहतिजाज करें। अगर हुकूमत काबीना में किसी मुस्लिम वज़ीर को शामिल नहीं करती है तो आने वाले मजलिस मुक़ामी इदारों के इंतेख़ाबात में कांग्रेस को मुनासिब सबक़ सिखाना होगा। मौलाना मुफ़्ती नदीम ने कहा कि इस सिलसिला में उन्हों ने अहमद पटेल,ग़ुलाम नबी आज़ाद, राहुल गांधी को बज़रीया फैक्स तफ़सीलात से आगही देते हुए सख़्त एहतिजाज किया है। फ़िलफ़ौर मुस्लमानों की नाराज़गी को दूर करने के लिए काबीना में एक और मर्तबा तौसीअ करते हुए मुस्लिम नुमाइंदगी के लिए किसी को मौक़ा फ़राहम किया जाय और अक़ल्लीयतों की बहबूद के लिए 6हज़ार करोड़ का बजट मुख़तस किया जाय जिस में मुस्लमानों के लिए 4हज़ार करोड़ मुख़तस करे

TOPPOPULARRECENT