Monday , October 23 2017
Home / World / काश, हम मलेशियाई प्लेन को हाईजैक कर सकते : पाक तालिबान

काश, हम मलेशियाई प्लेन को हाईजैक कर सकते : पाक तालिबान

मलेशिया के लापता तैय्यारे के बारे में अभी कोई सही इत्तेला नहीं मिल पाई है तैय्यारे को अगवा करने के इम्कानात को खारिज भी नही कियागया है तैय्यारे के लापता होने के बारे में लगाई जा रहीं अटकलों के बीच यह भी चर्चा है कि तैय्यारे को पाकि

मलेशिया के लापता तैय्यारे के बारे में अभी कोई सही इत्तेला नहीं मिल पाई है तैय्यारे को अगवा करने के इम्कानात को खारिज भी नही कियागया है तैय्यारे के लापता होने के बारे में लगाई जा रहीं अटकलों के बीच यह भी चर्चा है कि तैय्यारे को पाकिस्तान-अफगानिस्तान सरहद के नज़दीक तालिबान के कंट्रोल वाले इलाके में भी ले जाया जा सकता है |

हालांकि, पाकिस्तानी तालिबान के एक कमांडर ने तैय्यारे के अगवा में अपने किसी किरदार से इंकार किया है0 रायटर्स की रिपोर्ट के मुताबिक कमांडर ने कहा कि इस तरह के ऑपरेशन के बारे में तालिबान सिर्फ ख्वाब देख सकता है |

रायटर्स के मुताबिक तालिबान कमांडर ने कहा, `काश, हमें इस तरह के तैय्यारे का हाईजैक करने का मौका मिलता.`

इस बीच, मलेशियाई एयरलाइंस के लापता तैय्यारे को लेकर बढ़ती अटकलों के बीच अकवाम ए मुत्तहदा से जुड़े एक न्युक्लीयर निगरानी तंज़ीम ने कहा है कि उसे ऐसे किसी भी ब्लास्ट या हादिसा का पता नहीं चला है जिसका लापता तैय्यार से मुताल्लिक हो |

अकवाम मुत्तहदा के जनरल सेक्रेटरी बान की मून के तरजुमान स्टीफन दुजारिक ने कल यहां नामानिगारों से कहा, वियना वाकेय् सीटीबीटीओ ने मलेशिया एयरलाइंस के लापता तैय्यारे को लेकर तस्दीक की कि अब तक हवा में या जमीन पर किसी धमाके या तैय्यारे के हादिसे का पता नहीं चला है |

दुजारिक ने कहा कि सीटीबीटीओ के आईएमएस की तरफ से इस्तेमाल की जा रही चार में से तीन तकनीकों से अलग अलग हालातों की बुनियाद पर तैय्यारे के हादिसे का पता चल सकता है |

तस्दीक की निज़ाम का इस्तेमाल न्यूक्लीयर धमाके का पता करने में होता है लेकिन साथ ही यह एक बड़े तैय्यारे में धमाके का और जमीन या पानी पर इसके असरात का पता करने में भी काबिल है |

सीटीबीटीओ के सेक्रेटरी लसिना जेरबो ने पिछले हफ्ते कहा था कि वह उंचाई पर तैय्यारे में ब्लास्ट होने के इम्कान की की जांच के लिए तंज़ीम के सेंसर काम पर लगाएंगे | दुजारिक ने कहा कि सीटीबीटीओ के नेटवर्क में दुनिया भर में ज़्यादा सेंसिटिव सेंसर शामिल हैं जो न्यूक्लीयर धमाको और ज़लज़लो का पता लगाते हैं.

साबिक में सीटीबीटीओ के स्टेशनों ने कुछ तैय्यारे के हादिसात का पता लगाया है जिनमें मार्च 2009 में जापान के नारिता हवाईअड्डे पर हुई एक तैय्यारे का हादिसा शामिल है |

TOPPOPULARRECENT