Tuesday , October 17 2017
Home / India / किसानों को मुफ़्त बर्क़ी सरबराही मस्दूद करने का मुतालिबा

किसानों को मुफ़्त बर्क़ी सरबराही मस्दूद करने का मुतालिबा

मदुरई । १५ फरवरी (पी टी आई) सी पी आई (एम) ने आज इंतिबाह देते हुए कहा कि अगर हुकूमत ने बर्क़ी बोहरान पर क़ाबू पाने केलिए दीगर रियास्तों और मर्कज़ी ग्रिड से बर्क़ी की ख़रीदारी नहीं की तो रियासत में सनअती-ओ-ज़राअती आउट पिट के इलावामईशत भ

मदुरई । १५ फरवरी (पी टी आई) सी पी आई (एम) ने आज इंतिबाह देते हुए कहा कि अगर हुकूमत ने बर्क़ी बोहरान पर क़ाबू पाने केलिए दीगर रियास्तों और मर्कज़ी ग्रिड से बर्क़ी की ख़रीदारी नहीं की तो रियासत में सनअती-ओ-ज़राअती आउट पिट के इलावामईशत भी शदीद तौर पर मुतास्सिर होगी।

सी पी ऐम के रियास्ती सैक्रेटरी जी रामाकृष्णन ने कहा कि छोटी और दरमयानी दर्जा की सनअतों को रोज़ाना 8 घंटों की बर्क़ी कटौती का सामना ही, जिस की वजह से कई हज़ार अफ़राद बेरोज़गार हो चुके हैं। उन्हों ने इल्ज़ामआइद करते हुए कहा कि ए डी ऐम के और डी ऐम के हुकूमतों से रियासत की मुस्तक़बिल की जरूरतों को पेशे नज़र नहीं रखा और बर्क़ी पैदावार की जानिब सिरे से कोई तवज्जा ही नहीं दी गई। उन्हों ने कहा कि ग़रीब सारिफ़ीन पर बर्क़ी के ज़ाइद नर्ख़ आइद करना इंतिहाई नामुनासिब ही।

इलावा अज़ीं किसानों को मुफ़्त बर्क़ी सरबराही का जो सिलसिला जारी है वो बंद होना चाहीए क्योंकि इस से बर्क़ी बोर्ड को ख़सारा का सामना ही। दूसरी तरफ़ मल्टीनेशनल कंपनीयों और दीगर बड़े बड़े कॉरपोरेट हाउसॆस‌ को भी रियायती नर्ख़ पर बर्क़ीसरबराह करना नुक़्सान का सौदा ही। इस मौक़ा पर उन्हों ने कोनडनकलम न्यूक्लीयर पावर प्रॊजॆक्ट‌ हवाला देते हुए कहा कि ये हुकूमत की ज़िम्मेदारी है कि वो पराजकट के महफ़ूज़ होने के बारे में अवाम को क़ाइल करी।

पराजकट पर अमल आवरी से क़बलपराजकट के अतराफ़-ओ-अकनाफ़ वाक़्य मवाज़आत की तरक़्क़ी-ओ-तरवीज केलिए 200 करोड़ रुपय मुख़तस किए जाएं। जी रामाकृष्णन ने कहा कि हुकूमत को इस बात को भीयक़ीनी बनाना चाहीए कि ख़ानगी स्कूलस आइन्दा तालीमी साल से ओलयाए तलबा-ए-सेमुक़र्रर करदा फ़ीस ही वसूल करॆ।

हाल ही में एक स्कूल टीचर ओमा महेश्वरी के क़तल का ज़िक्र करते हुए कहा कि ये भी हुकूमत का फ़र्ज़ है कि वो स्कूल में टीचर्स और तलबा-ए-के लिए साज़गार माहौल पैदा करे और माहिरीन तालीम से मुशावरत करते हुए इन्हितात पज़ीरसक़ाफ़्त पर रोक लगाई।

TOPPOPULARRECENT