Thursday , August 17 2017
Home / International / ‘कुत्ते पालना गैर इस्लामी प्रक्रिया नहीं’

‘कुत्ते पालना गैर इस्लामी प्रक्रिया नहीं’

तेहरान: ईरान में कुत्तों के प्रेमियों में उस समय शोर मच गया जब अधिकारियों ने उनके पालतू कुत्तों के खिलाफ क्रेक डाउन करते हुए उन्हें जब्त करना शुरू कर दिया। अधिकारियों ने पालतू कुत्तों की स्वामित्व ‘आमियाना मगरबी तहजीब’ का प्रतीक बताते हुए यह क़दम उठाया।

प्रांत अस्फहान के शाहीन शहर में एक पालतू कुत्ते के मालिक ने अखबार शहरोनद के साथ बातचीत करते हुए बताया कि पिछले सप्ताह अचानक अधिकारी उसके घर आए और उसके कुत्ते को उठा ले गए। उसका कहना था, कि ” सरकारी अधिकारियों ने हमें कागजात दिखाए, जिनसे यह स्पष्ट हो रहा था कि वह जानवरों की देखभाल के नगर संगठन से आते हैं। वह घर में प्रवेश हुए और यह कहकर हमारे कुत्ते को पकड़ कर ले गए कि उसे टीका लगाने के लिए ले जा रहे हैं। ”

कुत्ते के मालिक को यह कहा गया कि टीकाकरण के बाद उसे कुत्ता लौटा दिया जाएगा लेकिन जब बाद में वह पशु कार्यालय पहुंचा तो अधिकारियों के पास वह कुत्ता तो दूर, कुत्ते का कोई रिकॉर्ड तक मौजूद नहीं था।

बाद में मीडिया की खबरों से पता चला कि अस्फहान के एक स्थानीय अभियोजक मोहसिन बोसीदी ने एक दमन अभियान शुरू किया है और मालिक का पालतू कुत्ता इसी दमन का शिकार हुआ है। हाल ही में बोसीदी ने फारस समाचार एजेंसी को साक्षात्कार देते हुए कहा था, कि” कुत्ते पालने और उन्हें साथ लेकर चलना धार्मिक आलिमों की निगाह में एक हराम प्रक्रिया है। अगर हमने किसी को भी कुत्ते के साथ देखा तो उसके खिलाफ सख्त कार्रवाई करेंगे क्योंकि कुत्ते पालना और उन्हें साथ लेकर चलना ‘आमियाना पश्चिमी सभ्यता’ को बढ़ावा देने के बराबर माना जाएगा। ”अखबार शहरोनद रिपोर्ट के अनुसार शाहीन शहर में होने वाले इस घटना के तीन दिन बाद अधिकारियों द्वारा पालतू कुत्तों को जब्त करने की कार्रवाई शुरू हो गई थी।

जावेद अली दाऊद ईरान सोसाइटी फॉर पशु संरक्षण के प्रमुख हैं। उनका कहना है कि इस तरह से जानवरों को जब्त करना एक गैर कानूनी प्रक्रिया है और अस्फहान के परोसीक्योटर ने बहुत गलत बात की है और यह अचूक गलत धारणा है कि इस्लाम पालतू कुत्तों के खिलाफ है और इस जानवर के प्रति  इस्लाम धर्म का रवैया इतना नकारात्मक है। जावेद के अनुसार, ” कुत्ते पालना किसी धार्मिक पुस्तक में हराम क़रार नहीं दिया गया। कुत्ते पालना प्रक्रिया को पश्चिमी सभ्यता से जोड़ना इस्लामी इतिहास और ईरानी सभ्यता को विकृत करने के बराबर है। ”

आमतौर से इस्लामी समाज में कुत्ते को अपवित्र और अशुद्ध माना जाता है हालांकि ईरानी अधिकारियों ने इस बारे में स्पष्ट रुख प्रदर्शित कर रखा है, जिसके अनुसार कुत्तों की भूमिका स्पष्ट है यानी संपत्ति की रक्षा और नेत्रहीनों को मार्गदर्शन करना और दोनों की अनुमति धर्म और कानून दोनों देता है।

TOPPOPULARRECENT