Friday , June 23 2017
Home / Delhi News / कुलभूषण जादव पर अंतर्राष्ट्रीय न्याय अदालत में सुनवाई पुरी, जल्द फैसले आने की उम्मीद

कुलभूषण जादव पर अंतर्राष्ट्रीय न्याय अदालत में सुनवाई पुरी, जल्द फैसले आने की उम्मीद

नई दिल्ली। पाकिस्तान की एक सैन्य अदालत द्वारा भारत के पूर्व नौसेना अधिकारी कुलभूषण जाधव को फांसी देने के मामले में अंतरराष्ट्रीय न्याय अदालत (आईसीजे) में सुनवाई पूरी हो गई है। अब भारत और पाकिस्तान को अदालत के फैसले का इंतजार है। कोर्ट का कहना है कि इस मामले में जल्द से जल्द से फैसला सुनाया जाएगा।

भारत और पाकिस्तान ने अपने-अपने पक्ष में कई दलीलें रखीं है। भारत ने पाकिस्तान पर इस मामले में मनमानी करने का आरोप लगाया है। भारत ने आरोप लगाया है कि पाकिस्तान ने वियना संधि का उल्लंघन किया है और कुलभूषण को कानूनी मदद नहीं दी गई है। वहां पाकिस्तान ने कहा है कि जासूसों पर वियना संधि लागू नहीं होती है। पाकिस्तान का कहना है कि उसने कुलभूषण को जासूसी करते हुए पकड़ा है।

पाकिस्तान ने भारत के पूर्व नौसैन्य अधिकारी कुलभूषण जाधव को 3 मार्च 2016 को जासूसी के शक में बलूचिस्तान से गिरफ्तार किया था। करीब एक साल बाद 10 अप्रैल को पाकिस्तान की एक सैन्य अदालत ने जासूसी के आरोप में फांसी की सजा सुनाई थी।

भारत ने इसका कड़ा विरोध किया और पाकिस्तान पर मनमानी करने का आरोप लगाया था। भारत ने कुलभूषण को फांसी देने के विरोध में आईसीजे का दरवाजा खटखटाया है।

सोमवार को सुनवाई के दौरान भारत के वकील हरीश साल्वे ने अंतरराष्ट्रीय न्याय अदालत में कहा कि उनके देश को अंदेशा है कि सुनवाई पूरी होने से पहले भारत के नागरिक कुलभूषण जाधव को फांसी दी जा सकती है।

साल्वे ने कहा कि जाधव को तीन मार्च को गिरफ्तार किया गया था और जासूसी एवं विध्वंसक गतिविधियों के आरोपों में उन्हें सजाए मौत सुनाई गई है। उनसे तब इकबालिया बयान दिलवाया गया, जब वह पाकिस्तान की सैन्य हिरासत में थे।

Top Stories

TOPPOPULARRECENT