Tuesday , October 24 2017
Home / World / कुवैती औरत के ख़िलाफ़ मुलाज़िमा के क़त्ल पर सज़ाए मौत का फ़ैसला बरक़रार

कुवैती औरत के ख़िलाफ़ मुलाज़िमा के क़त्ल पर सज़ाए मौत का फ़ैसला बरक़रार

कुवैत की सुप्रीम कोर्ट ने अपनी फ़िलपाइनी मुलाज़िमा को बहिमाना तशद्दुद से हलाक करने वाली ख़ातून के ख़िलाफ़ सज़ाए मौत का फ़ैसला बरक़रार रखा है। अदालत ने इस कुवैती औरत के माज़ूर ख़ाविंद को दस साल क़ैद की सज़ा के हुक्म की भी तौसीक़ कर दी है।

कुवैत की सुप्रीम कोर्ट ने अपनी फ़िलपाइनी मुलाज़िमा को बहिमाना तशद्दुद से हलाक करने वाली ख़ातून के ख़िलाफ़ सज़ाए मौत का फ़ैसला बरक़रार रखा है। अदालत ने इस कुवैती औरत के माज़ूर ख़ाविंद को दस साल क़ैद की सज़ा के हुक्म की भी तौसीक़ कर दी है।

अदालते उज़्मा का ये फ़ैसला हत्मी है और उस को कहीं चैलेंज नहीं किया जा सकता। अलबत्ता अमीर कुवैत सज़ाए मौत को उम्रकैद में तबदील कर सकते हैं। वाज़ेह रहे कि कुवैत में सज़ाए मौत के मुजरिमों को फांसी दे कर मौत से हमकिनार किया जाता है।

इस्तिग़ासा के मुताबिक़ इस कुवैती औरत को क़त्ल का मुजरिम क़रार दिया गया था। अदालती हुक्म के मुताबिक़ औरत अपनी मुलाज़िमा को कई रोज़ तक तशद्दुद का निशाना बनाती रही थी,

जब उस की सेहत बिगड़ गई और वो बेहोश हो गई तो दोनों मियां बीवी उस को वीरान सहराई इलाक़े में ले गए और बेहोशी की हालत ही में कार की पिछली नशिस्त से बाहर निकाला और उस पर कार चढा दी।

TOPPOPULARRECENT