Saturday , August 19 2017
Home / India / केंद्र का पैसा चाचा , भतीजा बांट रहे हैं : अमित शाह

केंद्र का पैसा चाचा , भतीजा बांट रहे हैं : अमित शाह

केंद्र का पैसा चाचा , भतीजा बांट रहे हैं: अमित शाह

लखनऊ । भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने यूपी की अखिलेश यादव सरकार पर आरोप लगाया है कि मोदी सरकार का पैसा चाचा भतीजा बांट रहे हैं। उन्होंने सपा महासचिव अमर सिंह को नारद कहा। वह बसपा से बगावत कर भाजपा में शामिल पूर्व नेता प्रतिपक्ष स्वामी प्रसाद मौर्य द्वारा आयोजित रैली को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने प्रदेश की दुर्दशा के लि‍ए सपा-बसपा-कांग्रेस को जि‍म्‍मेदार ठहराया। कहा कि‍ खनन में भ्रष्‍टाचार नहीं होता तो यूपी के हर घर में कलर टीवी होती। उन्होंने कहा कि किसान की बदहाली के लिए कांग्रेस जिम्मेदार है। शाह ने समाजवादियों को शोषण कर ने वाला बताया
उन्होंने करप्शन के आरोप में बर्खास्त मंत्री गायत्री प्रजापति को दोबारा मंत्रिमंडल में शामिल किए जाने पर मुख्यमंत्री अखिलेश यादव की खिंचाई की।उन्होंने सपा के हालिया विवाद पर चुटकी लेते हुए कहा कि महाभारत से भी बड़ी लड़ाई यादव परि‍वार में दि‍ख रही है। चाचा भतीजे को नि‍काल देता है तो अमर सिंह नारद की भूमि‍का में नजर आते हैं। उन्होंने सूबे की कानून व्यवस्था पर सवाल उठाए।
उन्होंने अपने संबोधन में मायावती पर भी प्रहार किया। कहा कि बहन जी ने ताज कोरि‍डोर घोटाला, पुलि‍स भर्ती घोटाला, एनआरएचएम सहि‍त कई घोटाला कि‍या। ये करीब 40 हजार करोड़ रुपए का है। यदि‍ वे अपने बंगले बेच दें तो हर गरीब के घर में एयरकंडीशन हो जाए। मायावती दलि‍तों का शोषण करती हैं। उन्होंने कांग्रेस पर हमला करते हुए कहा कि 65 साल में कि‍सानों की दुर्दशा के लि‍ए यह जि‍म्‍मेदार है। कांग्रेस राज में यदि‍ कि‍सानों का भला होता तो आज उनकी ये हालत नहीं होती। राहुल के पुरखों ने ही ये कि‍या है।
रैली को स्‍वामी प्रसाद मौर्य ने भी संबोधित किया। उन्होंने कहा कि मायावती पैसे की हवस में अंधी हो गई हैं। बसपा धन्ना सेठों की पार्टी होने लगी है। मौर्य ने कहा कि अब बसपा से उसके कार्यकर्ता ऊब चुके हैं।  रैली को प्रदेश प्रभारी और भाजपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष ओम प्रकाश माथुर , प्रदेश अध्यक्ष केशव प्रसाद मौर्य तथा अखिल भारतीय कुशवाहा महासभा उत्तर प्रदेश इकाई के अध्यक्ष नीरज कुशवाहा ने भी सम्बोधित किया।

यूपी से मलिक असग़र हाशमी

TOPPOPULARRECENT