Wednesday , September 20 2017
Home / International / केप टाउन मस्जिद हमले की वजह है इस्लामोफोबिया

केप टाउन मस्जिद हमले की वजह है इस्लामोफोबिया

फोटो: अल-जज़ीरा

दक्षिण अफ्रीका में अधिकारीयों ने मस्जिदों पर दो अलग-अलग हमलों के पीछे इस्लामोफोबिया को ज़िम्मेदार बताया है। इन मस्जिदों में सूअर का खून और सूअर की थूथन डाल कर अपवित्र कर दिया गया था।

पश्चिमी केप की सरकार ने कहा है कि सोमवार को केप टाउन की मस्जिद पर हमला जिसमें मस्जिद की दीवारों पर सूअर का खून मिला है, वह पहले दूसरी मस्जिद, जो 15 किमी दूर है, पर हुए हमले से जुड़ा हुआ है। उस हमले में मस्जिद के दरवाज़े पर सूअर की थूथन को डाला गया था।

“दोनों घटनाओं में इस्लामोफोबिया को एक आधार बनाया गया था,” सरकार ने एक बयान में कहा।

“इन दोनों घटनाओं की समानता और मस्जिदों की नज़दीकी, इस चिंता को ज़ाहिर करती है कि ये दोनों घटनाएं एक दुसरे से जुड़ी हो सकती है।”

110 साल पुरानी कलक बे मस्जिद के इमाम, अचमत सीती ने मुसलमानों से शांति बनाये रखने की अपील की है।

“यह मस्जिद 100 साल पुरानी है और इन सालों में यह पहली घटना जब मस्जिद में ऐसा हुआ है,” इमाम ने अल जजीरा से बातचीत में बताया।

“अतीत में चोरियां हुयी हैं, लेकिन यह बिलकुल घृणित घटना है।”

सत्तारूढ़ एएनसी पार्टी की स्थानीय शाखा ने इन घटनाओं को घृणित बताते हुए इसकी निंदा की है और साउथ अफ्रीका के नागरिकों से सह-अस्तित्व की संस्कृति की रक्षा के लिए एकजुट होने की अपील की है।

इस्लाम में सूअर को अपवित्र माना जाता है और उसे खाना हराम है।

मस्जिद में इन घटनाओं से एक हफ्ते पहले एक श्वेत पश्चिमी केप निवासी ने फेसबुक पर मस्जिदों को जलाने का आह्वान करते हुए पोस्ट डाली थी। हालाँकि, बाद में वह पोस्ट हटा ली गयी थी।

एक राष्ट्रिय समाचार पत्र, मुस्लिम व्यूज के संपादक, फरीद सयेद ने कहा कि यह हमले को इनकी प्रकृति के आधार पर अलग किया जा सकता है लेकिन ये इस बाटी के गवाह हैं की अपारथेइड के ख़त्म होने के बाद भी दक्षिण अफ्रीका में कुछ हिस्से अभी भी एकीकृत नहीं हो पाए हैं।

“दक्षिण अफ्रीका में नस्लीय भेदभाव की जडें अभी भी बहुत गहरी हैं, एक छोटी सी फेसबुक पोस्ट के बाद इन घटनाओं का होना तो यही दर्शाता है,” फरीद ने कहा।

“केवल श्वेत समुदाय में रहने वाले लोगों का मानना है कि उन्हें मुसलमानों को दूर रखने के लिए लड़ना होगा, वे सोचते हैं कि उनके पास राज्य का समर्थन नहीं है।”

“इन कट्टर नस्लवादीयों के गुस्से को दक्षिणपंथी मीडिया के लगातार मुसलमानों के दानवीकरण और अपमान से और बढ़ावा मिलता है,” फरीद ने आगे जोड़ा।

मुसलमान दक्षिण अफ्रीका की 5.5 करोड़ आबादी का 1.5 प्रतिशत हैं और राजनीति, शिक्षा, व्यापार और अन्य जगहों में प्रमुख पदों पर पकड़ रखते हैं।

TOPPOPULARRECENT