Tuesday , October 24 2017
Home / Crime / केरल में अरब शेख़ से नाबालिग़ लड़की की शादी का एक और मामला

केरल में अरब शेख़ से नाबालिग़ लड़की की शादी का एक और मामला

मुस्लिम नाबालिग़ लड़की की अरब शेख़ से शादी का एक और मामला यहां सामने आया है जैसा कि केरल में एक 17 साला नाबालिग़ मुस्लिम लड़की की अरब बाशिंदे से शादी की कोशिश की गई और इस कोशिश को नाकाम बनाने के लिए फ़लाह बहबूद बराए इतफ़ाल कमेटी से राबिता

मुस्लिम नाबालिग़ लड़की की अरब शेख़ से शादी का एक और मामला यहां सामने आया है जैसा कि केरल में एक 17 साला नाबालिग़ मुस्लिम लड़की की अरब बाशिंदे से शादी की कोशिश की गई और इस कोशिश को नाकाम बनाने के लिए फ़लाह बहबूद बराए इतफ़ाल कमेटी से राबिता किया गया। लड़की ने कमेटी से की जाने वाली अपनी शिकायत में अरब बाशिंदे से उसकी शादी के मुताल्लिक़ वाक़िफ़ करवाया है।

लड़की ने कमेटी को जो शिकायती मकतूब लिखा है इस में इस ने तफ़सीलात बताते हुए लिखा कि वो एक यतीम ख़ाने की ज़ेर निगरानी परवरिश पा रही है लेकिन यतीम ख़ाने के इंतेज़ामीया ने इस पर दबाव डालते हुए अरब बाशिंदे से शादी केलिए मजबूर किया है। लड़की ने ये भी शिकायत की कि अरब बाशिंदा इस से शादी और 17 दिन के हनीमून के बाद वतन वापिस चला गया और लड़की की शिकायत के बमूजब अरब बाशिंदे से उसकी शादी 13 जून को हुई है।

यतीम ख़ाने के इंतेज़ामीया की तरफ‌ से लड़की की मर्ज़ी के ख़िलाफ़ उसे अरब बाशिंदे से शादी पर मजबूर किया गया। बच्चों की फ़लाह-ओ-बहबूद केलिए मिला पोरम में मौजूद कमेटी के चेयरमैन शरीफ़ ओलथ ने कहा कि लड़की की शादी के बमूजब इस नाबालिग़ लड़की की 13 जून को ही अरब बाशिंदे से शादी करदी गई जो कि उसकी मर्ज़ी के ख़िलाफ़ यतीम ख़ाने के इंतेज़ामीया की जानिब से किया जाने वाला जबरी इक़दाम है।

लड़की की शिकायत को मुक़ामी पुलिस से रुजू कर दिया गया है जिस ने बचपन की शादीयों को गै़रक़ानूनी क़रार दिए जाने वाले दफ़ा ।006 के तहत एक मुक़द्दमा दर्ज करते हुए कार्रवाई का आग़ाज़ कर दिया है । दूसरी जानिब यतीम ख़ाने के सैक्रेटरी पी पी मुहम्मद अली ने लड़की के इल्ज़ामात को मुस्तर्द करते हुए कहा कि ये शादी दोनों ख़ानदानों के अफ़राद की बाहमी रजामंदी से की गई है जिस के रिकॉर्ड्स उन के पास मौजूद हैं ।उन्होंने मज़ीद कहा कि ये लड़की गुज़िशता 13बरसों से यहां यतीम ख़ाने में परवरिश पा रही है क्योंकि इस के वालिद ने ख़ानदान को बे यार-ओ-मददगार छोड़ दिया था।

अली ने दावे किया है कि ये शादी दोनों ख़ानदानों की रजामंदी से की गई है और उन के पास तमाम रेकॉर्ड्स मौजूद हैं। जबकि रियासत केरल में माज़ी में भी इस तरह के कई मुआमलात मंज़रे आम पर आचुके हैं।

TOPPOPULARRECENT