Saturday , September 23 2017
Home / AP/Telangana / केसीआर की राष्ट्रपति पद पर नज़र?

केसीआर की राष्ट्रपति पद पर नज़र?

हैदराबाद: मुख्यमंत्री के चंद्रशेखर राव की नजर क्या राष्ट्रपति पद पर है या फिर वह भाजपा गठबंधन में शामिल हो रहे हैं? । उगादी के अवसर पर पंडितों ने मुख्यमंत्री के बारे में जो भविष्यवाणी की है इससे पार्टी हलकों में इस विषय पर चर्चा कर रहे हैं। कुछ नेताओं का कहना है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी के उत्तराधिकारी की तलाश है और ऐसे में दक्षिण भारत से मजबूत दावेदार के रूप में के सी आर उभर सकते हैं। के सी आर ने तेलंगाना आंदोलन के दौरान देश के सभी राजनीतिक दलों और उनके नेताओं से करीबी संपर्क स्थापित किए थे और उन्हें केंद्र में मंत्री के रूप में कार्य करने का अनुभव है।

नई दिल्ली की राजनीति को के सी आर अच्छी तरह समझते हैं और यूपीए सरकार को विश्वास में लेते हुए जिस तरह तेलंगाना राज्य प्राप्त किया उस पर के सी आर को राजनीति का मैदान ” चाणक्य ” कहा जाता है। तेलंगाना का अधिग्रहण असंभव था लेकिन केसीआर पार्टी को कांग्रेस में विलय करने का यकीन करते हुए कांग्रेस को अलग‌ राज्य के गठन के लिए राजी कर लिया लेकिन बाद में उन्होंने अपनी अलग‌ पार्टी को जारी रखते हुए तेलंगाना में सत्ता हासिल कर ली।

बताया जाता है कि चंद्रशेखर राव 2017 में तेलंगाना के सत्ता अपने बेटे केटीआर पारित करते हुए राष्ट्रीय राजनीति में अहम रोल अदा करने की योजना रखते हैं। पंडितों की भविष्यवाणी ने राजनीतिक पंडितों के इन संभावनाओं को बल पहुंचा दी जिसमें कहा जा रहा था कि केटीआर को अगले साल मुख्यमंत्री के पद की जिम्मेदारी दी जाएगी।

उगादी के अवसर पर पंडितों ने मार्च 2017 के बाद तेलंगाना की राजनीति में केसीआर के रोल में कमी का संकेत दिया है। बताया जाता है कि चंद्रशेखर राव राज्य की समस्याओं के कारण केंद्र की सहायता प्राप्त करने के लिए एनडीए गठबंधन में शामिल हो सकती हैं और केंद्र सरकार में भी कम से कम 2 मंत्रालयों पद पाने की कोशिश की जाएगी।

अगर एनडीए में शामिल करना मकसूद न हो तो राष्ट्रपति पद पर अपनी दावेदारी पेश की जाएगी। ग़ौरतलब है कि राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी जुलाई 2017 में अपनी पांच साल का कार्यकाल पूरा कर लेंगे। हालांकि संविधान के अनुसार राष्ट्रपति की दूसरी अवधि के लिए फिर से चुना जा सकता है लेकिन प्रणब मुखर्जी के लिए यह संभव नहीं दिख रहा है क्योंकि वह यूपीए सरकार के तैयार हैं। दक्षिण भारत से पूर्व में राष्ट्रपति के पद पर कुछ शख्सियतें पकड़ चुकी हैं जिनमें नीलम सनजीवा रेड्डी और डा। एपीजे अब्दुल कलाम शामिल हैं।

टीआरएस के हलकों में उगादी समारोह के बाद यह अटकलें तेज हो गए चुकी हैं कि केसीआर अगले साल महत्वपूर्ण राजनीतिक निर्णय कर सकते हैं। पार्टी नेताओं के अलावा मंत्रियों और जनप्रतिनिधियों में भी केसीआर आगामी राजनीतिक परियोजनाओं पर अलग राय व्यक्त किया जा रहा है।

TOPPOPULARRECENT