Saturday , October 21 2017
Home / Hyderabad News / के ऐस राव को दिल्ली आने की हिदायत

के ऐस राव को दिल्ली आने की हिदायत

मर्कज़ी वज़ारत में शामिल ना करने पर बतौर-ए-एहतजाज पार्लीमैंट की रुकनीयत से मुस्ताफ़ी होने वाले कांग्रेस के सीनीयर रुकन पार्लीमैंट के ऐस राव को मुलाक़ात के लिए 14 नवंबर को दिल्ली पहुंचने की हिदायत दी गई है।

मर्कज़ी वज़ारत में शामिल ना करने पर बतौर-ए-एहतजाज पार्लीमैंट की रुकनीयत से मुस्ताफ़ी होने वाले कांग्रेस के सीनीयर रुकन पार्लीमैंट के ऐस राव को मुलाक़ात के लिए 14 नवंबर को दिल्ली पहुंचने की हिदायत दी गई है।

वाज़ेह रहे कि अलवर की नुमाइंदगी करने वाले कांग्रेस रुकन पार्लीमैंट के ऐस राव का मुलक भर में कांग्रेस के सीनीयर रुकन पार्लीमैंट में शुमार होता है। वो 2004-से मर्कज़ी काबीना में शमूलीयत की उम्मीद रखे हुए हैं, मगर हर बार उन्हें मायूसी का सामना करना पड़ा।

हाल ही में मर्कज़ी काबीना में तौसीअ और रद्दोबदल की गई, मगर इस बार नजर अंदाज़ किए जाने के बाद मिस्टर राव ने बतौर-ए-एहतजाज पार्लीमैंट की रुकनीयत से मुस्ताफ़ी होने का फ़ैसला करते हुए मकतूब इस्तीफ़ा (इस्तीफ़ा का खत) पार्टी सदर सोनीया गांधी और स्पीकर लोक सभा को रवाना कर दिया।

पार्टी ज़राए ने बताया कि हाईकमान के ऐस राव की ख़िदमात पार्टी के लिए इस्तिमाल कर सकती है, उन्हें ए आई सी सी का जनरल सैसक्रेटरी बनाया जा सकता है, सी डब्लयू सी का रुकन भी नामज़द किया जा सकता है, या

किसी भी शोबा से मुताल्लिक़ पार्लीमैंटरी कमेटी का सदर नशीन बनाए जाने की तवक़्क़ो की जा रही है। वज़ीर-ए-आज़म, के ऐस राव को इस्तीफ़ा से दस्तबरदार हो जाने की तरग़ीब देंगे।

TOPPOPULARRECENT