Wednesday , October 18 2017
Home / Hyderabad News / के सी आर की तजवीज़ से मेट्रो रेल प्रोजेक्ट में ताख़ीर के अंदेशे

के सी आर की तजवीज़ से मेट्रो रेल प्रोजेक्ट में ताख़ीर के अंदेशे

बावक़ार हैदराबाद मेट्रो रेल प्रोजेक्ट को जुज़वी तौर पर ज़रे ज़मीन बनाने तेलंगाना के चीफ़ मिनिस्टर के

बावक़ार हैदराबाद मेट्रो रेल प्रोजेक्ट को जुज़वी तौर पर ज़रे ज़मीन बनाने तेलंगाना के चीफ़ मिनिस्टर के
चन्द्रशेखर राव की तजवीज़-ओ-हिदायात के सबब ना सिर्फ़ ग़ैरमामूली ताख़ीर का शिकार होसकता है बल्कि इस के तामीराती कर्च में हज़ारों करोड़ रुपये का इज़ाफ़ा होसकता है।

बाख़बर ज़राए के मुताबिक़ चीफ़ मिनिस्टर के सी आर ने चादरघाट ता खैरताबाद पटरी पर जारी मेट्रो रेल प्रोजेक्ट का काम रोक देने आलमी शौहरत-ए-याफ़ता बाविक़ार कंपनी लार्सन ऐंड टोबरो ( एल ऐंड टी ) को ज़बानी हिदायत दी है क्युंकि वो चाहते हैं कि इस पटरी पर मेट्रो रेल ज़मीन की सतह के बजाये ज़र-ए-ज़मीन तामीर की जाये। ताहम सरकारी ज़राए ने इस बात की तौसीक़ नहीं की है।

लेकिन एल ऐंड टी में बावसूक़ ज़राए ने कहा कि के सी आर की तजवीज़ पर वो हुकूमते तेलंगाना के सरकारी मकतूब के मुंतज़िर हैं। एल ऐंड टी के ज़राए ने ताहम ये भी कहा कि के सी आर की इस तजवीज़ पर बाज़ टेक्नीकी वजूहात की बिना पर अमल आवरी मुम्किन नहीं है क्युंकि उनकी तजवीज़ पर अमल करने की सूरत में तामीराती मसारिफ़ में मज़ीद 2000 करोड़ रुपये का बोझ आइद होगा और सारा प्रोजेक्ट कम से कम पाँच साल के लिए ताख़ीर का शिकार होगा।

चादरघाट खैरताबाद पटरी आठ किलो मीटर तवील है जहां हैदराबाद मेट्रो रेल ( एच एम आर ) को 30 सतून नसब करना होगा। इस पटरी पर 50 ता 60लाख रुपये की लागत से एक सतून तामीर किया जा रहा है और पहले ही 60 सतून नसब किए जा चुके हैं और अगर इस पटरी पर प्रोजेक्ट को ज़र-ए-ज़मीन बनाया जाता है तो हर एक सतून को मुनहदिम करने पर कम से कम एक करोड़ रुपये के बराबर आइद होंगे।

मेट्रो रेल को ज़र-ए-ज़मीन बनाने के लिए 8 किलो मीटर तवील पटरी पर 20 ता 25 मीटर गहिरी खुदाई करना होगा, बाज़ मुक़ामात पर ये खुदाई 30 ता 35 मीटर गहिरी भी होसकती है।

नीज़ आग़ाज़ के मुक़ाम पर अतराफ़ का 4 ता 5 एकऱ् मुहीत रकबा दरकार होगा और काम की तकमील तक इस मसरूफ़ तरीन इलाके में ट्रैफ़िक की आमद-ओ-रफ़त को बंद करदेना होगा। चुनांचे पटरी को जुज़वी तौर पर ज़रे ज़मीन बनाने के सी आर की तजवीज़ से ना सिर्फ़ ताख़ीर होगी बल्कि मसारिफ़ में भी भारी इज़ाफ़ा होगा।इस दौरान एच एम आर और एल ऐंड टी ने प्रिंसिपल सेक्रेटरी महिकमा बलदी नज़म-ओ-नसक़-ओ-शहरी तरकियात को मकतूब रवाना करते हुए चीफ़ मिनिस्टर की तरफ़ से ज़ाहिर करदा नज़रियात पर वज़ाहत तलब की है। ताहम हनूज़ जवाब की मुंतज़िर है।

TOPPOPULARRECENT