Tuesday , March 28 2017
Home / Education / कोई भी राष्ट्र तब तक विकास नहीं कर सकता जब तक कि वह अनुशासन के पाबंद न हों: AMU प्रो वाईस चांसलर

कोई भी राष्ट्र तब तक विकास नहीं कर सकता जब तक कि वह अनुशासन के पाबंद न हों: AMU प्रो वाईस चांसलर

नई दिल्ली: कोई भी राष्ट्र तब तक विकास नहीं कर सकती जब तक कि वह अनुशासन के पाबंद न हों। यह बात अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय के प्रो वाइस चांसलर (ब्रिगेडियर रिटायर्ड) सैयद अहमद अली ने अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय में ‘ओल्ड बॉयज: परंपरा और मूल्यों’ के विषय पर आयोजित एक प्रोग्राम को संबोधित करते हुए कही। उन्होंने कहा कि कोई भी राष्ट्र तभी सफल होती है जब वह अनुशासन के साथ काम करती है और समय का पाबंद होती है और भारत की सेना इसलिए सफल है क्योंकि वे अत्यंत अनुशासन का पाबंद  है।

Facebook पे हमारे पेज को लाइक करने के लिए क्लिक करिये

हम लोगों को भारतीय सेना के अनुशासन के मामले में सीखना चाहिए. उन्होंने कहा कि अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय से छात्रों का जो लगाव होता है वह अन्य विश्वविद्यालय के छात्रों में नहीं पाई जाती। इसी के साथ उन्होंने कहा कि पूरी दुनिया में जो अलीगढ़ की पहचान है वह उसे दूसरी विश्वविद्यालय से अलग करती है और पहचान इसलिए है कि अलीगढ़ में सांस्कृतिक परंपरा और मूल्यों पर बहुत जोर दिया जाता है।

न्यूज़ नेटवर्क समूह प्रदेश 18 के अनुसार प्रो वाईस चांसलर ने अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय की सेवाओं का उल्लेख करते हुए कहा कि भारत में जब कोई आपदा आती है अलीगढ के छात्र, शिक्षक, चिकित्सक, अभियंता अपनी टीम और राहत सामग्री के साथ तुरंत पहुंच जाती है। उन्होंने इसकी मिसाल पेश करते हुए कहा कि गुजरात के कच्छ और उतराखंड के विनाशकारी बाढ़ में सेना के बाद सबसे पहले पहुंचने वाली टीम अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय की थी।

उन्होंने अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय को एक वर्ग द्वारा बदनाम किए जाने की ओर इशारा करते हुए सभी ओल्ड बॉयज से अपील की है कि जब कोई नकारात्मक बात अलीगढ़ के संबंध में सामने आए तो उसका विरोध करें और सही मंच पर उसका सकारात्मक जवाब देने की कोशिश करें. उन्होंने अलीगढ़ की परंपरा और सांस्कृतिक मूल्यों को अलीगढ़ का विरासत करार देते हुए कहा कि यह एएमयू की पहचान है और किसी हालत में भी उसे नहीं छोड़ा जाना चाहिए।

Top Stories

TOPPOPULARRECENT