Wednesday , September 20 2017
Home / Featured News / कोलकाता : मुख्तलिफ मदरसों में 26 जनवरी का ज़शन :

कोलकाता : मुख्तलिफ मदरसों में 26 जनवरी का ज़शन :

IMG_20160126_111325

अब्दुल हमीद अंसारी। Siasat hindi

कोलकाता। हर साल की तरह इस साल भी कोलकाता के मुख्तलिफ मदरसों में 26 जनवरी का जश्न धुम धाम से मनाया गया. मगर इस बार कुछ खास इसलिए भी रहा क्योंकि RSS ने इल्ज़ाम लगाते हुए हिदायत दी कि मदरसों में तिरंगा नहीं फहराया जाता है, उन्हें फहराने के जरूरत है. ये बात झूठी और दावे खोखली साबित हुई.

IMG_20160126_115118

कोलकाता के संतोष पुर में ‘मदरसा दारूल उलूम असरारिया’ में गणतंत्र दिवस जोशो खरोश के साथ मनाया गया.मदरसे के उस्ताद और तलबा बहुत ही खुशी के साथ तिरंगे को लहराया.बचचों ने नेशनल एंथम जन गण मन अधिनायक जया हे, के साथ सारे जहाँ से अच्छा हिंदुस्तां हमारा भी गाया.

26 जनवरी की सुबह से ही इसकी तैयारियों में लगे उस्ताद और तलबा से जब मैंने पुछा के क्या आप जानते हैं कि 26 जनवरी क्यो मनाया जाता है? मेरे इस सवाल के जवाब में मदरसा दारूल उलूम असरारिया के बच्चों ने कहा कि हमारा मुल्क हिंदुस्तान आजाद होने के बाद इस दिन अपने संविधान और कानून को लागू किया, इसलिए हर साल की तरह इस साल भी हम इस दिन इक्कठे होकर गणतंत्र दिवस के रूप में मनाते हैं.

IMG_20160126_114656

हमारे उस्तादों ने हमें बताया है कि हमे इस दिन को मनाना चाहिए और हम हर साल की तरह इस साल भी गणतंत्र दिवस मनाने यहां आये हैं. इस मदरसे में मुख्तलिफ जुबान के बच्चे पढ़ते हैं, यहां अरबी, हिंदी, अंग्रेजी और बंगला जुबान में तालीम की गुंजाइश है. यह तमाचा उनलोगों के गाल पर जरूर है जो लोग मदरसों पर सवाल खड़े करते हैं.

IMG_20160126_113544

मालूम हो कि इस मुल्क की आजादी में मदरसों का काफी अहम रोल रहा है. आज़ादी की लड़ाई की नींव मदरसों में ही रखी गई थी. मदरसा दारूल उलूम असरारिया भी अपने मुल्क की तालीम में अहम रोल अदा कर रहा है, दिनी तालीम के साथ दुनियावी तालीम के लिए भी आगे निकल बच्चों को खिदमत पेश कर रहा है.

TOPPOPULARRECENT