Wednesday , June 28 2017
Home / Delhi News / कोलकाता हाईकोर्ट के जस्टिस कर्णन का राष्ट्रपति चिठ्ठी, सजा माफ करने की अपील की

कोलकाता हाईकोर्ट के जस्टिस कर्णन का राष्ट्रपति चिठ्ठी, सजा माफ करने की अपील की

नई दिल्ली। न्यायपालिका से सीधी टक्कर लेकर सुर्खियों में आये कलकत्ता हाइकोर्ट के जस्टिस सीएस कर्णन ने अब राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी को पत्र लिखा है। जस्टिस कर्णन ने अपने पत्र में राष्ट्रपति से मांग की है कि सुप्रीम कोर्ट ने अवमानना मामले में उन्हें जो छह महीने की सजा सुनायी है, उस पर महामहिम रोक लगायें।

जस्टिस कर्णन ने चीफ जस्टिस खेहर समेत सुप्रीम कोर्ट के 6 जजों को अपने सामने पेश होने का आदेश दियाफिलहाल, जस्टिस सीएस कर्णन भूमिगत हो गये हैं। हालांकि, एक खबर यह भी है कि वह गिरफ्तारी से बचने के लिए विदेश चले गये हैं। इन्हीं खबरों में कहा गया है कि जस्टिस कर्णन अब तभी भारत लौटेंगे, जब राष्ट्रपति उन्हें मुलाकात का समय देंगे।

दूसरी तरफ, जस्टिस कर्णन के वकील का कहना था कि जस्टिस कर्णन बिना शर्त माफी मांगने के इच्छुक थे, लेकिन उनकी याचिका को स्वीकार नहीं किया गया। वकील ने यह भी कहा कि उन्होंने सुप्रीम कोर्ट से जस्टिस कर्णन के अरेस्ट ऑर्डर पर रोक लगा दी जाये, लेकिन सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि जब तक जज उपस्थित नहीं होंगे, इस मामले पर कोई सुनवाई होगी।

सुप्रीम कोर्ट ने जस्टिस कर्णन को सुनायी छह महीने की जेल, उनके आदेश मीडिया में प्रकाशित करने पर भी बैन ज्ञात हो कि जस्टिस कर्णन ने 23 जनवरी, 2017 को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को सुप्रीम कोर्ट एवं विभिन्न हाइकोर्टों के 20 जजों की सूची भेजी थी। जस्टिस कर्णन ने इन सभी को भ्रष्ट बताते हुए उनके खिलाफ कठोर कार्रवाई की मांग की।

Top Stories

TOPPOPULARRECENT