Monday , October 23 2017
Home / Politics / क्या उत्तर प्रदेश में कांग्रेस की चुनावी नैया ब्राह्मण के हाथों में है?

क्या उत्तर प्रदेश में कांग्रेस की चुनावी नैया ब्राह्मण के हाथों में है?

PC: ANI

ब्राह्मण कार्ड के जरिये कांग्रेस यूपी की सियासत में वापसी करने की पूरी कोशिश कर रही है
राहुल गांधी के यूपी दौरे को लेकर राज्य कांग्रेस के महामंत्री उमेश पंडित ने मथुरा में ऐसे पोस्टर लगवाये हैं, जिसमें राहुल गांधी को बड़े-बड़े अक्षरों में पंडित राहुल गांधी बताया गया है. ये पोस्टर पार्टी के आधिकारिक तौर पर डिजाइन किए गए पोस्टर की तरह ही हैं, बस राहुल के नाम के आगे ”पं.” जोड़ दिया गया है.
सियासी जानकारों के मुताबिक, ‘न जात पर, न पात पर, बटन दबाओ हाथ पर’ का नारा देने वाली कांग्रेस भले ही कहती हो कि वह जाति और धर्म की राजनीति नहीं करती, लेकिन 27 साल से यूपी में सत्ता से बाहर पार्टी जाति कार्ड खेलने का कोई मौका नहीं छोड़ रही. ब्राह्मण कार्ड के जरिये वह यूपी की सियासत में वापसी करने की पूरी कोशिश कर रही है.
दरअसल, पहले शीला दीक्षित को सीएम उम्मीदवार बनाकर कांग्रेस आलाकमान ने खुलकर ब्राह्मण कार्ड खेला. 1989 में यूपी में कांग्रेस के ही एन डी तिवारी आखिरी ब्राह्मण सीएम थे. उसके बाद हर पार्टी की सरकार बनी, लेकिन कोई ब्राह्मण सीएम नहीं बना. ऐसे में जब आलाकमान ने ही ब्राह्मण जाति पर दांव लगा दिया तो भला यूपी के नेता कहां पीछे रहने वाले थे. यूपी कांग्रेस नेता उमेश पंडित ने राहुल गांधी को पंडित राहुल गांधी लिखकर अपने लिए भी ब्राह्मण कार्ड चल दिया.

TOPPOPULARRECENT