Tuesday , September 19 2017
Home / India / क्या मोदी हुकूमत आमिर ख़ान को निशाना बना रही है?

क्या मोदी हुकूमत आमिर ख़ान को निशाना बना रही है?

23 नवम्बर को आमिर ख़ान एक प्रोग्राम में गए थे जैसा कि वो अक्सर जाया करते हैं लेकिन जब इस प्रोग्राम के दरम्यान किसी ने उनसे मुल्क में बढती असहिष्णुता को ले कर सवाल किया तो उन्होंने जो जवाब दिया उससे हडकंप सा मच गया. असल में जो आमिर ने कहा वो कोई ऐसी बात नहीं थी जो नयी थी बस चूंकि वो आमिर ने कही थी इसलिए उससे हंगामा होना लाज़िमी हो गया. उन्होंने असहिष्णुता का ज़िक्र करते हुए कहा था कि मुल्क के मौजूदा हालात से परेशान हो कर एक बार उनकी बीवी ने उनसे मुल्क के बाहर अपनी रिहाइश क़ायम करने का ख़याल भी साझा किया, इतना कहना था कि एक तबक़े ने उनका ज़बरदस्त विरोध करना शुरू कर दिया और जैसा कि हर बार होता है कुछ लोगों ने उन्हें पाकिस्तान में बस जाने की हिदायत तक दे डाली. इन लोगों ने सिर्फ़ आमिर के बयान को सही ही साबित किया.

इन सब से अलग आमिर ख़ान हिन्दुस्तानी हुकूमत के “इनक्रेडिबल इंडिया” कैंपेन का हिस्सा रहे हैं लेकिन अभी साल की शुरुवात के ही दिनों में ख़बर आई कि उन्हें इस कैंपेन से हटा दिया गया है. ये ख़बर अभी चल ही रही थी कि टूरिज्म वज़ारत ने इसे कोरी अफ़वाह बता कर मुआमले को ठंडा कर दिया. इन सब के बीच एक नया मोड़ कल आया जब ये ख़बर फिर से आई कि आमिर ख़ान को “इनक्रेडिबल इंडिया” कैंपेन से हटा दिया गया है और उनके बाद सुपर स्टार अमिताभ बच्चन के नाम पे विचार चल रहा है. अब इन सब पर हुकूमत सफ़ाई देने में लगी है कि उसने आमिर को नहीं हटाया है बल्कि वो किसी कंपनी के कॉन्ट्रैक्ट में थे और उस कंपनी से उनका कॉन्ट्रैक्ट ख़त्म हो गया है. मैक्केन नाम कि एजेंसी के सदर और मशहूर गीतकार प्रसून जोशी ने इस मुआमले पर सफ़ाई देते हुए कहा कि “मैक्केन का टूरिज्म वज़ारत के साथ “इनक्रेडिबल इंडिया” को लेकर जो क़रार हुआ था वो ख़त्म हो गया था, आमिर ख़ान ने इसमें सहयोग दिया”. हालांकि ये सफ़ाई किसी के गले नहीं उतर रही है और कांग्रेस ने बीजेपी पे सीधा इलज़ाम लगाते हुए कहा कि मोदी हुकूमत आमिर ख़ान को निशाना बना रही है और उन्हें सिर्फ़ इसलिए “इनक्रेडिबल इंडिया” कैंपेन से हटाया गया है क्यूंकि उन्होंने असहिष्णुता के मुद्दे पर अपनी बात रखी.

इन सब के बीच ख़बर आ रही है कि पीएमओ ने टूरिज्म वज़ारत से इस बारे में सवाल किया है. इस मुआमले पर जहां हुकूमत हर तरफ़ से घिरी हुई है वहीँ विपक्ष इस मुद्दे पर हुकूमत को घेरने में लगा है.

TOPPOPULARRECENT