Friday , August 18 2017
Home / Islamic / “खाना काबा” पर सबसे पहले किसने गिलाफ़ चढ़ाया?

“खाना काबा” पर सबसे पहले किसने गिलाफ़ चढ़ाया?

मक्का: “काबा” का कवर जिसे किस्वा कहा जाता है कि बदलने की एक पुरानी अग्रणी इतिहास है। काबे को जाहिलियत के दौर में कवर से ढका गया और फिर यह सिलसिला इस्लाम के आने के बाद भी जारी रहा।

Facebook पे हमारे पेज को लाइक करने के लिए क्लिक करिये

किस्वा कोई काबे का एहराम नहीं है क्योंकि बैतुल्लाह जानदार नहीं है और किसी प्रकार के संस्कार का अदा नहीं करता है। दरअसल मुसलमान अल्लाह की उपासना करते हुए काबे को किस्वा से सजाते है। इस तरह परस्पर दिलों के बीच प्रीति और प्यार बनाने के लिए इसे क़िबला बनाए जाने पर धन्यवाद भी किया जाता है।
जाहिलियत के दौर में काबे का किस्वा किसी विशेष शैली का नहीं होता था। वे कई रंग के होते थे और चमड़े और कपड़े से बना होता था। अलवाकदी ने इब्राहीम बिन अबू रबिया के संदर्भ में वर्णित किया है कि “जाहिलियत के दौर में बैतुल्लाह को चमड़ों की गिलाफ़ से ढका गया”।
जहां तक ज़माना इस्लाम का संबंध है तो इसमें सबसे पहले पैगंबर सल्लल्लाहु अलैहि व सल्लम ने काबे में येमेनी कपड़े का गिलाफ़ चढ़ाया। इसी तरह अबू बकर, उमर, उस्मान, मुआविया और अब्दुल्ला बिन जुबैर रज़ि० अन्हुम ने सफेद और लाल धारी वाले येमेनी कपड़े का इस्तेमाल किया। बाद में हज्जाज बिन यूसुफ अब्दुल मलिक बिन मरवान के दौर में काबे पर कमख्वाब का गिलाफ़ चढ़ाया। हारून रशीद के काल में काबे में साल में तीन बार तीन अलग अलग रंग का गिलाफ़ चढ़ाया जाता है।
काबे को काले रंग के कमख्वाब का गिलाफ़ पहले खलीफा नासिर अब्बास (मृतक 622 हि) ने चढ़ाया। उसने पहले काबे को हरा कमखाब की गिलाफ़ से सजी और फिर काले कमख्वाब का इस्तेमाल किया और यही काला रंग आज तक चला आ रहा है।
रसूले करीम PUBH की एक परंपरा में हमीरी राष्ट्र के राजा तुब्बा पर सब वश्तम से मना किया गया है। इस परंपरा को इमाम अहमद बिन हंबल रह० ने अपनी गद्दी में शामिल किया है। तुब्बा वह पहला व्यक्ति था जिसने काबा पर पूरा गिलाफ़ चढ़ाया। उसने गिलाफ़ किस्वा के लिए विभिन्न प्रकार के कपड़े का उपयोग किया। इसके अलावा काबे का दरवाजा बनाया और कुंजी तैयार की। बाद में उनके उत्तराधिकारियों ने भी काबे को किस्वा से लैस करने के लिए जारी रखा।

TOPPOPULARRECENT