Thursday , September 21 2017
Home / Sports / खिलाड़ी के नाम पर अपने बच्चों को जापान भेजने का मामला : बैडमिंटन संघ को बदनाम करने की साजिश एक

खिलाड़ी के नाम पर अपने बच्चों को जापान भेजने का मामला : बैडमिंटन संघ को बदनाम करने की साजिश एक

नई दिल्ली : भारतीय बैडमिंटन संघ (बाइ) ने उन खबरों का खंडन किया है, जिनमें ये कहा गया था कि बाइ के अधिकारियों ने खिलाड़ियों के बजाय अपने बच्चों को सद्भावना दौरे पर जापान भेजा था। बाइ के महासचिव अनूप नारंग ने कहा कि ये सभी आरोप बैडमिंटन संघ की छवि खराब करने की कोशिश है।

नारंग ने कहा, ‘मीडिया में हाल में आई खबरों में कोई सच्चाई नहीं है। यहां तक कि खेल मंत्री विजय गोयल ने भी कहा है कि जिस कार्यक्रम को लेकर यह आरोप लगाए जा रहे हैं, वह एक सांस्कृतिक कार्यक्रम था और खेल मंत्रालय का इससे कोई लेना-देना नहीं था।’ उन्होंने कहा, ‘बीएआइ और इसके अध्यक्ष अखिलेश दास गुप्ता के खिलाफ जांच शुरू होने से संबंधित खबरों में भी कोई सच्चाई नहीं है और ये गुमराह करने वाली हैं। कुछ खास मंशा वाले दलों ने यह सब किया है, जो बीएआइ की छवि और प्रतिष्ठा को धूमिल करना चाहते हैं।’

नारंग ने बीएआइ के पूर्व महासचिव विजय सिन्हा पर संघ को बदनाम करने के उद्देश्य से विवाद खड़ा करने का आरोप लगाया। उन्होंने कहा, ‘बीएआइ बताना चाहता है कि विजय सिन्हा को नौ जनवरी को बेंगलुरु में हुई बीएआइ की कार्यकारी समिति की बैठक में बर्खास्त किया जा चुका है और वह अब बीएआइ को बदनाम करने के उद्देश्य से हताशा में सारे हथकंडे अपना रहे हैं। बीएआइ देश में बैडमिंटन के प्रचार-प्रसार में लगा हुआ है और प्रतिभाशाली विश्व स्तरीय खिलाडि़यों की एक पूरी पीढ़ी तैयार की है, जो अंतरराष्ट्रीय स्तर पर प्रतिष्ठित टूर्नामेंटों में देश का मान बढ़ा रहे हैं।’ मालूम हो कि सिन्हा को उत्तर प्रदेश बैडमिंटन संघ (यूपीबीए) से भी बर्खास्त किया जा चुका है।

TOPPOPULARRECENT