Thursday , October 19 2017
Home / Uttar Pradesh / खुद चलायेंगे, तभी मिलेगा ऑटो का परमिट

खुद चलायेंगे, तभी मिलेगा ऑटो का परमिट

रांची 23 जून : दारुल हुकूमत की ट्रैफिक नेजाम को आसानी तौर से ओपरेशन और आलूदगी की सतह कम करने के लिए शहर में चल रहे अजाफी 3000 ऑटो हटाये जायेंगे। शहर के मुख्तलिफ जगहों पर सिर्फ 3085 ऑटो ही चलेंगे। इसके लिए 750 ऑटो को अलग से परमिट जारी किया जाये

रांची 23 जून : दारुल हुकूमत की ट्रैफिक नेजाम को आसानी तौर से ओपरेशन और आलूदगी की सतह कम करने के लिए शहर में चल रहे अजाफी 3000 ऑटो हटाये जायेंगे। शहर के मुख्तलिफ जगहों पर सिर्फ 3085 ऑटो ही चलेंगे। इसके लिए 750 ऑटो को अलग से परमिट जारी किया जायेगा। अब ऑटो का परमिट उन्हें ही दिया जायेगा, जो खुद ऑटो चलायेंगे। यानी अब अलग से ड्राइवर नहीं रखना होगा। कॉर्पोरेशन इलाके में कुल 75 पड़ाव की निशान देहि किये गये।

सड़क पर जहां-तहां गाड़ी खड़ा कर सवारी चढ़ाने और उतारने पर गाड़ी जब्त किये जायेंगे। बिना परमिट के पकड़े गये गाड़ी अब पुलिस नहीं छोड़ पायेगी। आखरी फैसला अदालत से होगा। शहर और देहि इलाकों के ऑटो का रंग अलग-अलग होगा। यह फैसला पीर के दिन झारखंड हाइकोर्ट की तरफ से तशकील आला सतही कमेटी की बैठक में लिया गया।

कोर्ट को सौंपी जायेगी रिपोर्ट

कमेटी ने आइआइएम, रांची के तजवीज को मंजूरी देते हुए इसे लागू करने पर रजामंदी जतायी। कमेटी अपनी रिपोर्ट झारखंड हाइकोर्ट को सौंपेगी। अदालत से हुक्म मिलने के बाद इसे लागू किया जायेगा। आइआइएम की रिपोर्ट का जिक्र करते हुए बताया गया कि फिलहाल 2335 ऑटो को परमिट दिया गया है, जबकि शहर में गैर कानूनी तौर से 6100 ऑटो चल रहा है। शहर में रोजाना 1.5 लाख लोग ऑटो की दौरह करते हैं। अगर 3085 ऑटो रोजाना चार ट्रिप करते हैं, तो अजाफी ऑटो की जरूरत नहीं पड़ेगी साथ ही ट्रैफिक बोझ कम होगा। आलूदगी लेबल में कमी आयेगी।

बैठक में ट्रांसपोर्ट कमिश्नर सुरेंद्र सिंह, डिविजनल कमिश्नर वंदना डाडेल, डीसी विनय कुमार चौबे, एसएसपी साकेत कुमार सिंह, सीनियर आला वकील अजीत कुमार, वकील दिलीप जेरथ डीटीओ अजय कुमार सिंह, सहित कई आला अफसर मौजूद थे।

ऑटो एलपीजी स्टेशन

बैठक में एचपीसीएल और बीपीसीएल की तरफ से शहर के दीगर सेंटरों पर ऑटो एलपीजी सेंटर खोलने का तजवीज दिया गया। कहा गया कि जिला इंतेजामिया से एनओसी मिलने के बाद आगे की कार्रवाई की जायेगी।

TOPPOPULARRECENT