Wednesday , August 23 2017
Home / India / गुजरातः ऊना आंदोलन के बाद भाजपा सरकार के खिलाफ फिर होगा बड़ा दलित आंदोलन

गुजरातः ऊना आंदोलन के बाद भाजपा सरकार के खिलाफ फिर होगा बड़ा दलित आंदोलन

अहमदाबाद। दलित पर होने वाले अत्याचार को लेकर गुजरात की भाजपा सरकार के खिलाफ दलित एक बार फिर बड़ा आंदोलन करने जा रहे हैं। 16 नवंबर को अमरेली जिले के मेइन बाजार में एक सम्मेलन का आयोजन किया जा रहा है जिसमें 26 दलित संगठन शामिल होंगे। इस आंदोलन में ओबीसी और अल्पसंख्यक संगठनों के भी शामिल होने की बात कही जा रही है। दरअसल ऊना कांड के बाद हुए आंदोलन में पूरे गुजरात में दलित, मुस्लिम और ओबीसी के लोगों ने साथ आकर प्रदर्शन किया था।

दलितों को मिला ओबीसी-अल्पसंख्यक संगठनों का साथ

सामाजिक एकता जागृति मिशन के संयोजक केवल सिंह राठौर ने बताया कि आंदोलन के लिए दलितों के संगठन के अलावा ओबीसी और अल्पसंख्यक समाज के विभिन्न संगठनों का साथ मिला है। उन्होंने बताया कि ये आंदोलन गुजरात के ऊना कांड के बाद हुए प्रदर्शन में शामिल बेकसूर दलित युवाओं की गिरफ्तारी के विरोध में किया जा रहा है। उन्होंने बताया कि पुलिस द्वारा आंदोलनकारियों को गलत आरोप लगाकर गिरफ्तार किया गया है।

आंदोलनकारियों को जेल बंद कर आवाज दबाना चाहती है सरकार

आंदोलनकारियों का कहना है कि गुजरात की भाजपा सरकार झूठे आरोपों में जेल बंद कर आंदोलन को दबाना चाहती है। इनका आरोप है कि भाजपा और आरएसएस द्वारा ऊना कांड के पीड़ितों को तमाम तरह के प्रलोभन और धमकी देकर उन्हें बहलाया फुसलाया जा रहा है। आपको बता दें कि ऊना कांड के बाद पूरे गुजरात में आंदोलन किया गया था। प्रदर्शन के दौरान एक पुलिसवाले की मौत हो गई थी। पुलिस का आरोप है कि प्रदर्शनकारियों के हमले में मौत हुई थी जबकि प्रदर्शनकारियों का कहना है कि पुलिसकर्मी की मौत हादसे में हुई थी।

TOPPOPULARRECENT