Wednesday , September 27 2017
Home / India / “गुजरात दंगों के बाद सोनिया गाँधी आई थीं ज़किया जाफ़री से मिलने”

“गुजरात दंगों के बाद सोनिया गाँधी आई थीं ज़किया जाफ़री से मिलने”

कांग्रेस के सांसद रहे मरहूम एहसान जाफरी, जो गुलबर्ग सोसाइटी पे दंगाइयों के हमले में मारे गए थे, उनके बेटे ने गुजरात के साबिक़ डीजीपी आर.बी. श्रीकुमार जिन्होंने अपनी किताब में ये कहा था कि कांग्रेस सदर सोनिया गाँधी 2002 के दंगों के बाद ज़किया जाफ़री से मिलने नहीं गयी थीं.

अपनी किताब ‘गुजरात-बिहाइंड दा कर्टन’ में श्रीकुमार ने लिखा है कि कांग्रेस के दुसरे लीडरों ने सोनिया गाँधी को ज़किया जाफ़री से मिलने नहीं दिया.
ज़ाकिया जाफ़री के बेटे तनवीर जाफ़री ने कहा कि कांग्रेस सदर उनकी माँ से मिलने आई थीं, चार पांच रोज़ बाद वो उनकी माँ से मिली थीं.

“दंगों में हमारा घर जल गया था इसलिए हम एक दोस्त के घर रह रहे थे. सोनिया गाँधी अहमदाबाद आई थीं और मुझसे और मेरी माँ से उन्होंने सिटी सर्किट हाउस में मुलाक़ात की थी. तनवीर ने बताया कि उनके साथ अहमद पटेल भी थे और एक और सज्जन साथ आये थे.

“यह सच है” श्रीकुमार के दावे के जवाब में तनवीर ज़ाफ़री ने कहा.

हालांकि श्रीकुमार अपने दावे पे क़ायम हैं और उन्होंने इस बारे में तनवीर जाफ़री को ईमेल भी लिखा
“मेरा ये कहना कि सोनिया गाँधी आपके घर आपकी माँ से मिलने नहीं आई थीं, एक दम सही और सच है. “

उन्होंने आगे कहा कि “हमें ये भूलना नहीं चाहिए कि गुलबर्ग सोसाइटी से जहां बाक़ी लोग भाग गए थे, एहसान जाफ़री साहब औरतों और बच्चों को महफ़ूज़ करने के लिए वहीँ रुके. उनकी शहादत को ना ही सूबे कि हुकूमत ने माना ना ही मरकज़ में इसको सम्मान मिला. “

TOPPOPULARRECENT