Wednesday , September 20 2017
Home / Delhi / Mumbai / गुजरात में सोनी योजना का शुभारंभ, जनसभा में मोदी के भाषण

गुजरात में सोनी योजना का शुभारंभ, जनसभा में मोदी के भाषण

JAMNAGAR, AUG 30 (UNI)- Prime Minister Narendra Modi at a public meeting, organised to mark the inauguration of SAUNI project, in Jamnagar district in Gujarat on Tuesday. UNI PHOTO -17U

सानो सारा (गुजरात): हारदिक‌ पटेल जाट‌ आंदोलन समिति को आज हिरासत में ले लिया गया उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के जनसभा में  बाज़ी की। 25 कार्यकर्ताओं को कार्यक्रम से पहले ही आसपास के इलाकों से पुलिस ने एहतियाती उपाय के रूप में हिरासत में लिया था। जब प्रधानमंत्री सोनी सिंचाई प्रोजेक्ट का उद्घाटन कर रहे थे तो लगभग 3 युवक जो पटेल आंदोलन के थे ” जय सरदार, जय पट्टेदार‌” के नारे लगाने पर पुलिस ने हिरासत में ले लिया। उन्हें जल्दी जनसभा के स्थान से स्थानांतरित कर दिया गया। जिले जामनगर के एसपी प्रदीप सेजोल ने कहा कि हम 3 लोगो को सभा स्थल से लेकर गए क्योंकि वे नारे बाजी करने की कोशिश कर रहे थे। हालांकि मोदी ने नारे बाज़ी के बावजूद अपने भाषण जारी रखा।

सोनी प्रोजेक्ट के उद्घाटन से पहले 25 से अधिक आंदोलन सदस्यों को राजकोट और जामनगर जिलों के विभिन्न क्षेत्रों से समारोह में गड़बड़ पैदा करने से पहले एहतियाती उपाय के रूप में हिरासत में ले लिया गया था। जाट‌ आंदोलन समिति पिछले एक साल से अधिक समय से एक आंदोलन का नेतृत्व कर रहा है और पटेल समुदाय के लिए ओबीसी कोटा की मांग कर रहा है। एक बयान में समिति ने कहा कि वह अपने उद्देश्य में सफलता प्राप्त कर ली है। प्रधानमंत्री के सामने आवाज उठाई जा चुकी है। पहले मिलन पटेल ने नारा बुलंद किया और अन्य ने उन का अनुसरण किया। स्थानीय कनवेनरस और आंदोलन के सदस्यों को राजकोट पुलिस पडखारी और गांधी जी से हिरासत में ले लिया। कई अन्य लोगों को धारोल तालुका पुलिस ने हिरासत में ले लिया।

राजकोट के पडखारी पुलिस स्टेशन के सब इंस्पेक्टर ने कहा कि कम से कम 5 सदस्यों को आज सुबह हिरासत में ले लिया गया जबकि वह सानो सारा की दिशा दिखाने के लिए बड‌ रहे थे। पुलिस को सूचना मिली थी कि कुछ अन्य लोगों को भी अन्य पुलिस स्टेशनों से अधिकारियों ने राजकोट और जामनगर में आज सुबह हिरासत में लिया है। आंदोलन के प्रवक्ता ब्रजेश पटेल ने कहा कि आंदोलन के सभी प्रमुख कनवेनरस को पुलिस ने जनसभा से पहले ही हिरासत में ले लिया है। हालांकि आंदोलन के अन्य वरिष्ठ अधिकारी विरोध करने के स्टैंड पर अटल हैं।

गुजरात में जल्द ही चुनाव होने वाले हैं। 2014 में प्रधानमंत्री पद पर आसीन होने के बाद पहली बार प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज पटेल आंदोलन के स्थिर गढ़ में एक सिंचाई प्रोजेक्ट का उद्घाटन करने के बाद किसानों को प्रोत्साहन देने की कोशिश की। उन्होंने कहा कि वे कृषि क्षेत्र में क्रांतिकारी परिवर्तन लाना चाहते हैं लेकिन उनके सिद्धांत को किसानों ने शुरुआत में नहीं माना था। उन्होंने उन दिनों को याद करते हुए वह गुजरात के मुख्यमंत्री थे, कि उन्हें अपने सिद्धांत के आधार पर किसानों के विरोध का सामना करना पड़ा था लेकिन उन्होंने अपना रुख नहीं बदला। आज नदी नर्मदा का पानी गुजरात के दूरदराज क्षेत्र कुछ उत्पादकों तक पहुंच रहा है और आज 70 हजार टन केसर आम का निर्यात किया जा रहा है। कांग्रेस पर अपरोक्ष आलोचना करते हुए उन्होंने कहा कि आप टुकड़े फेंककर और प्रोत्साहन देकर वोट तो हासिल कर सकते हैं लेकिन देश नहीं चला सकते। उन्होंने कहा कि उनकी सरकार क्रांतिकारी परिवर्तन पैदा करना चाहती है। नदी नर्मदा के नहरों के जाल के कारण गुजरात कमी निकासी शिकार क्षेत्र सौराष्ट्र तेजी से विकास कर रहा है।

कपास उत्पादन में 370 प्रतिशत की वृद्धि हो गई है। मूंगफली की खेती 600 प्रतिशत और गेहूं की खेती 300 प्रतिशत अधिक हो चुकी है। उन्होंने हैरानी जताई कि अगर मौजूदा सोनी प्रोजेक्ट के तहत किसानों को अधिक पानी उपलब्ध हो जो उनके लिए सोने जैसा कीमती है तो वह क्या करतब कर दिखाएंगे। 12 हजार करोड़ रुपये मालियती यह योजना 115 ज़खायरआब को पर करेगी जो सौराष्ट्र के क्षेत्र के लिए आवंटित होंगे। बरसात के दिनों में लगभग 3 लाख एकड़ फुट पानी बर्बाद हो जाता था और जलस्तर से उच्च स्तर पर बहने वाली दरियाएँ उसे समुद्र में शामिल कर देती थी। इससे पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी कल अपने गृह राज्य गुजरात में सौराष्ट्र क्षेत्र के जल संकट खत्म करने के उद्देश्य वाला प्रमुख सौराष्ट्र नर्मदा भूजल सिंचाई योजना (सोनी योजना) के पहले चरण का उद्घाटन किया विमान से जामनगर पहुंचने के बाद खराब मौसम के कारण पूर्व निर्धारित हेलीकाप्टर बजाय सड़क मार्ग से आइजी 3 बांध पहुंचे।

मोदी ने मुख्यमंत्री विजय रोपानय और उपमुख्यमंत्री नितिन पटेल की मौजूदगी में बटन दबा कर नर्मदा नदी के अतिरिक्त पानी को सौराष्ट्र के भंडार भरने के इस योजना की शुरुआत की। इसके योजना के तहत सौराष्ट्र क्षेत्र के 11 जिलों के 115 छोटे बड़े बांधों के जलाशयों को नर्मदा नदी पर बने सरदार सरोवर बांध के अतिरिक्त पानी से भरा जाना है| प्रधानमंत्री इस योजना के पहले चरण की शुरूआत जामनगर जिले के सनोसरा गांव से करेंगे| मोदी ने गुजरात के तत्कालीन मुख्यमंत्री के रूप पर वर्ष 2012 में लगभग 1200 करोड़ वाले इस परियोजना का शिलान्यास किया था।

TOPPOPULARRECENT