Friday , October 20 2017
Home / Khaas Khabar / गुमराह होने के बाद पछताते हैं मुसलमान: मायावती

गुमराह होने के बाद पछताते हैं मुसलमान: मायावती

बहुजन समाज पार्टी की सरबराह मायावती का दावा है कि मुल्क में मुसलमान इंतेखाबात में गुमराह होने के बाद पछताते हैं। लोकसभा इंतेखाबात के नतीजे आने के एक दिन बाद हफ्ते के रोज़ मायावती ने लखनऊ में एक प्रेस कांफ्रेंस में कहा कि यह फैसला

बहुजन समाज पार्टी की सरबराह मायावती का दावा है कि मुल्क में मुसलमान इंतेखाबात में गुमराह होने के बाद पछताते हैं। लोकसभा इंतेखाबात के नतीजे आने के एक दिन बाद हफ्ते के रोज़ मायावती ने लखनऊ में एक प्रेस कांफ्रेंस में कहा कि यह फैसला यूपीए के खिलाफ आया है।

मायावती ने कहा कि इस बार के लोकसभा इंतेखाबात में मुस्लिम समाज के साथ अपर कास्ट के लोग गुमराह हो गए। उन्होंने कहा कि इन दोनों तब्के को अब पछताने का कोई फायदा तो नहीं है लेकिन यह लोग इलेक्शन के वक्त जरा स भी होशियार नहीं रहते हैं। उन्होंने कहा कि इस बार मुसलमान बड़ी तादाद में गुमराह हुआ है। यह लोग पहले तो गुमराह होते हैं और इलेक्शन के चंद दिन बाद पछताते हैं। उन्होंने कहा कि इस बार भी मुसलमानों ने समाजवादी पार्टी के हक में वोट दिये है। यह लोग विधानसभा इंएखाबात में भी गलती कर पछता रहे थे लेकिन लोकसभा इंतेखाबात में फिर गलती कर दी।

मायावती ने कहा कि इस लोकसभा इंतेखाबात में भी हमारी पार्टी का वोट फीसद बढ़ा है। इससे पहले 2009 में हमारी पार्टी को करीब एक करोड़ 51 लाख वोट मिले थे। इस बार हमको एक करोड़ 60 लाख वोट मिले हैं। हमारी पार्टी वोट पाने के मामले में मुल्क की तीसरी सबसे बड़ी पार्टी है।

उन्होंने कहा कि बीजेपी ने मुल्क भर में गलत तश्हीर किया, इसकी वजह से ही हम पिछड़े हैं। यह फैसला यूपीए के खिलाफ है। कांग्रेस की गलत पालिसी की वजह से लोगों में ज़्यादा गुस्सा था। इसके सबब हम लोग भी जनता के गुस्से का शिकार हो गए।

उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश में सपा और कांग्रेस ने मिलकर इंतेखाबात लड़े। जिसकी वजह से भाजपा ने इसका फायदा ले लिया। उन्होंने कहा कि सपा ने अमेठी में राहुल गांधी तथा रायबरेली में सोनिया गांधी के खिलाफ अपना उम्मीदवार नहीं खड़ा किया तो कांग्रेस ने कन्नौज, मैनपुरी तथा बदायूं में कोई उम्मीदवार नहीं उतारा।

मायावती ने कहा कि आजमगढ़ व फिरोजाबाद में भी कांग्रेस ने हल्के उम्मीदवार को उतारा। उन्होंने कहा कि फिरोजाबाद में कांग्रेस के उम्मीदवार को 7,447 व आजमगढ़ में तकरीबन 18 हजार वोट मिले।

उन्होंने दावा किया कि दलित वोट बैंक आज भी मेरे साथ है। लोग गुमराह कर रहे थे कि दलित वोट बैंक बसपा से खिसक रहा था। मायावती ने कहा कि इस बार इंतेखाबात में भाजपा के अमित शाह ने फिर्कावाराना तकरीर दिए। अमित शाह ने बसपा के खिलाफ भी काफी साजिश किया, लेकिन हमारी पार्टी के हामी उनके बहकावे में नहीं आए।

TOPPOPULARRECENT