Wednesday , October 18 2017
Home / Khaas Khabar / गुरूब -ए- आफताब के बाद ख्वातीन को हिरासत में न ले पुलिस’

गुरूब -ए- आफताब के बाद ख्वातीन को हिरासत में न ले पुलिस’

मुंबई, 26 दिसंबर: (एजेंसी) गुरूब-ए-आफताब के बाद एक खातून को गैरकानूनी ढंग से हिरासत में लेने और गिरफ्तार करने के लिए पुलिस को फटकार लगाते हुए बांबे हाईकोर्ट ने गुरूब-ए-आफताब के बाद और तुलु-ए-आफताब से पहले किसी भी खातून को हिरासत या फि

मुंबई, 26 दिसंबर: (एजेंसी) गुरूब-ए-आफताब के बाद एक खातून को गैरकानूनी ढंग से हिरासत में लेने और गिरफ्तार करने के लिए पुलिस को फटकार लगाते हुए बांबे हाईकोर्ट ने गुरूब-ए-आफताब के बाद और तुलु-ए-आफताब से पहले किसी भी खातून को हिरासत या फिर गिरफ्तार नहीं करने को कहा है।

हाईकोर्ट ने इस सिलसिले में महाराष्ट्र के डायरेक्टर जनरल ऑफ पुलिस (डीजीपी) और शहर पुलिस कमिश्नर को सभी पुलिस थानों को हुक्म जारी करने को कहा है। जस्टिस ए के ओका और एसएस शिंदे की डिवीजनल बेंच ने डीजीपी और सीपी को दो हफ्ते के अंदर सिम्त जारी करने का हुक्म देने को दिया है।

बेंच ने कहा है कि सभी पुलिस आफीसरो को क्रिमनल प्रोसीजर कोड सेक्शन ( Criminal Procedure Code Section) 46 (4) को लाज़िमी तौर पर अमल करने का हुक्म देने को कहा है । इसके मुताबिक, किसी भी जुर्म के लिए मुल्ज़िम खातून की नागुज़ीर हालात को छोड़कर गुरूब-ए-आफताब के बाद और तुलू-ए-आफताब से पहले गिरफ्तारी पर रोक है।

इस दफा के मुताबिक, यदि पुलिस किसी ख्वातीन को गुरूब आफताब के बाद और तुलू आफताब से पहले गिरफ्तार करना चाहती है तो इसके लिए उसे ज्यूडिशियल मजिस्ट्रेट से इज़ाज़त लेनी होती है। कोर्ट ने यह हुक्म भारती खानधार की तरफ से दायर दरखास्त की सुनवाई करते हुए जारी किया। भारती को मांटुगा पुलिस स्टेशन ने इलाहाबाद की एक कोर्ट के तरफ से जारी गैर जमानती वारंट की वजह से गिरफ्तार किया था।

भारती को पुलिस सब इंस्पेक्टर मारुति जाधव ने 13 जून 2007 की शाम को गिरफ्तार किया था। उसे मांटुगा पुलिस स्टेशन में तीन घंटे तक बैठाए रखा गया था। एक दूसरे पुलिस सब इंस्पेक्टर अनंत गौरव उसकी गिरफ्तारी दिखाने के लिए कागज तैयार कर रहा था। भारती को अगले दिन मजिस्ट्रेट के सामने पेश किया गया जहां से उसे जमानत पर रिहा कर दिया गया।

इसके बाद मुतास्सिरा ने पुलिस कमिश्नर को खत लिखकर गैर कानून ढंग से हिरासत और गिरफ्तार करने के लिए जाधव और गौरव पर कार्रवाई करने की मांग की थी। कमिश्नर की ओर से कोई जवाब नहीं मिलने पर उसने हाईकोर्ट का दरवाजा खटखटाया।

TOPPOPULARRECENT