Sunday , October 22 2017
Home / Delhi / Mumbai / गुलाम नबी आजाद कांग्रेस के महासचिव प्रभारी मामलों उत्तर प्रदेश

गुलाम नबी आजाद कांग्रेस के महासचिव प्रभारी मामलों उत्तर प्रदेश

नई दिल्ली: कांग्रेस ने उत्तर प्रदेश और पंजाब में विधानसभा चुनाव की तैयारी करते हुए बड़े पैमाने पर संगठनात्मक फेरबदल किया जहां वरिष्ठ नेता गुलाम नबी आजाद और कमलनाथ को दो राज्यों जनरल सचिवों प्रभारी नियुक्त किया है। गुलाम नबी आजाद उत्तर प्रदेश में पार्टी मामलों के प्रभारी होंगे। उन्हें ऐसे समय यह जिम्मेदारी दी जा रही है जबकि पार्टी अल्पसंख्यकों को आकर्षित करने की कोशिश कर रही है और मायावती की समाजवादी पार्टी के साथ संभावित गठबंधन के लिए भी कोशिशें हो रही हैं। जबकि गुलाम नबी आजाद को इस पार्टी के साथ काफी अच्छा संबंध है।

गुलाम नबी आजाद, जो राज्यसभा में विपक्ष के नेता है उन्हें इससे पहले दो बार महासचिव प्रभारी मामलों उत्तर प्रदेश निर्धारित किया गया था। कमलनाथ हरियाणा और पंजाब के चुनाव के पर्यवेक्षक होंगे। पार्टी महासचिव जनार्दन द्विवेदी ने यह बात बताई। मधु सुघन मिस्त्री जो अब तक यूपी मामलों के जिम्मेदार थे उन्हें महासचिव प्रभारी केंद्रीय चुनाव समिति नियुक्त किया गया है जबकि शकील अहमद पंजाब और हरियाणा के प्रभारी होंगे।

कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने यह बदलाव ऐसे समय जब एक दिन पहले ही राज्यसभा के चुनाव परिणाम सामने आए जिसमें उत्तर प्रदेश में पार्टी विधायकों ने क्रॉस वोटिंग की थी। इसके अलावा हरियाणा में 14 विधायकों ने जानबूझ कर गलत निशान पर वोट दिया जिसकी वजह से कांग्रेस समर्थित होते उम्मीदवार आरके आनंद को हार हुई। पूर्व हरियाणा के मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा के इशारे पर आंतरिक सबूताज के आरोप भी लगाए गए हैं। उत्तर प्रदेश में पिछले लोकसभा चुनाव में कांग्रेस केवल दो सीटों पर जीत हासिल कर पाई।

सोनिया गांधी और राहुल गांधी अपनी पारंपरिक सीट रायबरेली और उम्मीथी सफल हुए थे। यूपी में 1989 के बाद मंडल। मंदिर राजनीति ने कांग्रेस को पीछे कर दिया और बसपा का उदय देखा गया और उसने राज्य के प्रमुख दलित वोट अपने पक्ष में कर लिए थे। पंजाब में कांग्रेस पिछले 9 साल से विपक्ष में है और अब वह शिरोमणि अकाली दल। भाजपा गठबंधन को सत्ता से बेदखल करने का निश्चय किया है। इस बार आम आदमी पार्टी भी एक महत्वपूर्ण सत्ता की दावेदार बनकर उभरी है।

TOPPOPULARRECENT