Saturday , October 21 2017
Home / India / गोंडा में दुर्गा विसर्जन के दौरान पत्थराव के बाद साम्प्रदायिक तनाव

गोंडा में दुर्गा विसर्जन के दौरान पत्थराव के बाद साम्प्रदायिक तनाव

mandir_1476242103

उत्तर प्रदेश के गोंडा जिले में दुर्गा प्रतिमा विसर्जन के दौरान कथिततौर पर एक जुलूस पर पथराव को लेकर साम्प्रदायिक तनाव हो गया है। इस मामले में पुलिस ने 17 लोगों को गिरफ्तार किया है। भाजपा सांसद बृजभूषण शरण सिंह ने पुलिस पर एकतरफा कार्रवाई का आरोप लगाया है।

अधीक्षक सुधीर कुमार सिंह ने बताया कि कोतवाली नगर क्षेत्र में कल देर शाम दुर्गा प्रतिमा विसर्जन के दौरान कुछ लोगों ने माहौल खराब करने के इरादे से रास्ता जाम कर धरना-प्रदर्शन शुरू कर दिया था। पुलिस ने पहले उन्हें हटाने का प्रयास किया पर वो नहीं माने तो पुलिस ने हल्का बल प्रयोग किया उसके बाद उन लोगों ने पथराव करना शुरू कर दिया। नजीतन ड्यूटी पर तैनात पीएसी के ड्यूप्टी कमाडेंट चौरसिया सहित कई लोग घायल हो गए और एक मजिस्ट्रेट की गाड़ी क्षतिग्रस्त हो गई।

उन्होंने बताया कि इस मामले में भाजपा नेता महेश तिवारी समेत 17 व्यक्तियों को नामजद किया गया है। इसके अलावा अज्ञात लोगों के खिलाफ शांतिभंग करने और दंगा फैलाने का मुकदमा दर्ज किया गया है। फिलहाल 17 नामजद लोगों को गिरफ्तार हुई है। दूसरी तरफ कैसरगंज से भाजपा सांसद बृजभूषण शरण सिंह ने पुलिस पर  एकतरफा कार्रवाई करने का आरोप लगाते हुए सुबह अपने समर्थकों के साथ कोतवाली परिसर के सामने धरना दे रहे हैं।

उन्होंने आरोप लगाया है कि जिन लोगों ने विसर्जन के दौरान जुलूस पर पथराव किया, पुलिस उनको गिरफ्तार करने के बदले जुलूस के साथ चल रहे लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर गिरफ्तार कर रही है। उन्होंने दावा किया है कि मंगलवार की देर शाम थाना कोतवाली नगर के के गुड्डूमल चौराहे के पास दुर्गा प्रतिमा विसर्जन जुलूस पर एक धार्मिक समुदाय द्वारा पत्थर फेंका गया। उसके बाद केंद्रिय दुर्गा पूजा समिति के लोगों ने पथराव करने वालों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराने और उनकी गिरफ्तारी की मांग करते हुए नूरामल मंदिर के पास की सड़क पर देने बैठे। उसके बाद पुलिस आकर उन पर लाठीचार्ज कर किया।

घटना खिलाफ जिले के विभिन्न कस्बों और बाजारों को हिंदूवादी संगठनों ने बंद का आहवान किया। जिला मुख्यालय समेत नवाबगंज, वजीरगंज, परसपुर, बेलसर, खरगूपुर, मनकापुर समेत कई बाजारों में अधिकतर दुकान बंद रहे। हर जगह सुरक्षा बलों को तैनात किया गया है। इलाके में धारा 144 लागू कर दिया गया है। प्रशासन का कहना है कि वो फिलहाल दोनों समुदाय के लोगों से बातचीत कर मामले को खत्म कराने की कोशिश में जुटी है।

TOPPOPULARRECENT