Friday , August 18 2017
Home / Bihar News / गोत्र पर सवाल उठा कर दिल्ली हारे, डीएनए पर बिहार हारेंगे : केजरीवाल

गोत्र पर सवाल उठा कर दिल्ली हारे, डीएनए पर बिहार हारेंगे : केजरीवाल

पटना : दिल्ली के वजीरे आला अरविंद केजरीवाल और बिहार के वजीरे आला नीतीश कुमार जुमेरात को पटना में एक साथ भाजपा पर हमला बोला। बिहार इंतेजामिया सुधार मिशन सोसाइटी की तरफ से अधिवेशन भवन में मुनक्कीद ‘बेहतर इंतेजामिया सिस्टम के जरिये से शहरियों की ताक़त ‘ मौजू पर बहस में दोनों लीडरों ने बिहार एसेम्बली इंतिख़ाब में आपसी तालमेल को लेकर कोई एलान तो नहीं की, लेकिन बिहार को खुसुसि रियासत का दर्जा व दिल्ली को पूरी तरह से रियासत का दर्जा दिये जाने का हिमायत किया।

एक दिन के बिहार दौरे पर जुमेरात की सुबह पटना पहुंचे केजरीवाल ने कहा कि मरकज़ी हुकूमत नीतीश कुमार और बिहार के डीएनए पर सवाल उठा रही है। इससे पहले दिल्ली एसेम्बली इंतिख़ाब के वक़्त भी भाजपा ने यही गलती की थी। मुझे नक्सली तक कहा था। मेरा गोत्र को भी तशद्दुद बता दिया था और इसके तो इश्तिहार तक छपवाये गये थे।

अवाम ने उसका जवाब दिया और 70 में से 67 सीटें हमें दीं। केजरीवाल ने कहा, गुजिशता दिनों बिहार को स्पेशल पैकेज देने की एलान की गयी। पैकेज का एलान ऐसे किया गया, जैसे लगा कि बिहार के लोगों को खरीदने की कोशिश की जा रही है। बिहार के लोग इतने सस्ते में बिक सकते हैं क्या? बिहार के लोग बिकाऊ नहीं हैं। वे चुप नहीं रह सकते हैं और दिल्ली की तरह बिहार की अवाम भी जवाब देगी। केजरीवाल ने मरकज़ी हुकूमत पर दिल्ली में बदउनवान के खिलाफ मुहिम को रुकावट करने का इल्ज़ाम लगाते हुए कहा कि यह गुंडागर्दी है।

केजरीवाल ने कहा कि नीतीश कुमार की कियादत में बिहार में हुकूमत देखा है। इसकी गूंज दिल्ली तक पहुंच रही है। बिहार में सरकारी सर्विस का हक़ एक्ट लागू होने के चार साल पूरे होने पर उन्होंने कहा कि 11.06 करोड़ दरख्वास्त आये और बिहार सरकार ने 10.96 करोड़ दरख्वास्त का निबटारा कर दिया, यह काबिले तारीफ है।

दीगर रियासतों में भी बिहार से सीख लेकर इसे लागू किया गया है और दिल्ली में भी हम इसे लागू करने की कोशिश करेंगे। इसे सीखने के लिए अफसरों को यहां भेजेंगे। उन्होंने कहा कि दिल्ली में हमने कुछ शुरुआत की और करने जा रहे हैं। बर्थ, कास्ट, इनकम सर्टिफिकेट लेने में लोगों को परेशानी होती है। ऐसे में उन्हें दलालों का सहारा लेना पड़ता है। दिल्ली सरकार पूरी अमल को खत्म करने की तैयारी कर रही है। जब दलाल से जो काम हो सकता है तो बिना दलाल के भी काम हो सकता है। दिल्ली में इ-डिस्ट्रिक्ट प्रोग्राम शुरू करने जा रहे हैं। इंटरनेट के जरिये ही अप्लाइ कर सकते हैं और उसी से उन्हें सर्टिफिकेट भी मिल जायेगा।

 

TOPPOPULARRECENT