Monday , May 1 2017
Home / India / गोल्ड मेडलिस्ट कृष्णा पूनिया ने लड़कियों से छेड़खानी करने वालों को सबक सिखाकर जीता सोशल मीडिया का दिल

गोल्ड मेडलिस्ट कृष्णा पूनिया ने लड़कियों से छेड़खानी करने वालों को सबक सिखाकर जीता सोशल मीडिया का दिल

जयपुर : कॉमनवेल्थ गेम्स की गोल्ड मेडलिस्ट भारतीय डिस्कस थ्रो खिलाड़ी कृष्णा पूनिया ने सोशल मीडिया का दिल जीत लिया| पूनिया द्वारा लोगों का दिल जीतने की वजह रही की उन्होंने नए साल पर तीन लड़कियों से छेड़खानी करने वाले लड़कों को सबक सिखाया |

नए साल के दिन राजस्थान के चुरु में तीन लड़के रेलवे क्रासिंग के पास से वहां से गुज़र  रही तीन लड़कियों को परेशान कर रहे थे | रेलवे क्रासिंग पर रेडलाइट होने की वजह से रुकी हुईं थीं | लड़कों की हरकत देखकर पूनिया फ़ौरन अपनी कार से उतरकर उनकी और झपट पड़ीं | जिसके बाद तीनों लड़के पूनिया को अपनी तरफ़ आता देख कर मोटरसाइकिल लेकर भागने लगे | कृष्णा पूनिया ने  लड़कों को मोटरसाइकिल से भागते देख  दौड़कर उनका पीछा किया | जिसके बाद वह एक लड़के को पकड़ने में कामयाब रहीं |

पूनिया ने पुलिस को फोन किया लेकिन पुलिस ने पहुंचने में थोड़ी देर की|  पूनिया ने इसके लिए पुलिस प्रशासन की आलोचना की| हिन्दुस्तान टाइम्स अखबार की ख़बर के मुताबिक़ उन्होंने कहा कि पुलिस थाना वहां से महज दो मिनट दूर होने के बावुजूद भी पुलिस वाले मेरे दो बार फोन करने के बाद भी काफी समय बाद पहुंचे|  उन्होंने कहा कि महिलाओं की सुरक्षा कैसे सुनिश्चित करेंगे अगर पुलिसवाले इतनी देरी से पहुंचेंगे |पूनिया ने कहा कि जब उन्होंने दो किशोरियों के संग छेड़खानी होते देखा तो उन्हें लगा कि वो उनकी बेटियां भी हो सकती थीं| ये ख्याल आते ही वो कार से उतरकर लड़कों को रोकने के लिए झपट पड़ीं |

भारत के लिए  2010 के कॉमनवेल्थ खेलों में डिस्कस थ्रो में पूनिया गोल्ड मेडल जीत चुकी हैं| पूनिया ने लोगों को द्वारा महिलाओं के संग छेड़खानी जैसी घटनाओं पर खामोश रहने पर चिंता जाहिर की| उन्होंने कहा कि हमारे समाज की ये समस्या है कि यहां ऐसी घटनाओं के खिलाफ आवाज उठाने वाले और विरोध करने वाले बहुत कम लोग हैं| उन्होंने कहा कि अगर आम नागरिक लड़कियों से छेड़खानी जैसी घटनाओं को गंभीरता से लेने लगें तो इस पर काफी हद तक कंट्रोल किया जा सकता है|

 

Top Stories

TOPPOPULARRECENT