Friday , August 18 2017
Home / India / घरों में काम करने वाली महिलाएं कैशलेस, मालिकों के पास नहीं है नकदी

घरों में काम करने वाली महिलाएं कैशलेस, मालिकों के पास नहीं है नकदी

नोटबंदी के कारण पैदा हुए नकटी संकट से छुटकारा नहीं मिल रहा है। छोटे-छोटे कामगार, दूसरों के घरों में काम करके गुजारा करने वाली महिलाओं को उनके मालिकों से पैसा नहीं मिल रहा है जिससे उनके सामने भुखमरी की स्थिति बनने लगी है।

आगरा की हीरादेवी दिल्ली आकर किसी तरह घरों में झाड़ू-पोंछा बर्तन करके अपना गुज़ारा करती हैं। सभी घरों से कैश में ही पैसे मिलते हैं लेकिन इस बार बात कुछ अलग है. नोटबंदी के बाद कोई आने वाले कुछ दिनों तक उन्हें पैसे देने को तैयार नही है। हालत इतनी ख़राब है कि घर में राशन के डब्बे तो हैं, पर राशन नहीं. गुरुवार को घर आने से पहले बच्चों के खाने लिए रोटी और टमाटर पीस कर रख आई हैं. न तेल है, न साबुन है।

पिछले महीने भी किसी तरह आठ तारीख के बाद महीना चलाया है। लोग कह रहे हैं कि धीरे-धीरे 100 – 200 करके पैसे ले लेना. जब हमने पूछा कि लोग क्यों पैसे नहीं दे रहे तो कहने लगीं कि लोगों के पास भी कैश नहीं है. रोज़ कतारों में लगकर आ जाते हैं. जब उन्हें ही पैसे नहीं मिलते तो हमें कहां से देंगे।

हीरादेवी चेक नहीं लेना चाहतीं। कहती हैं कि कम पढ़ी-लिखी हूं. चेक लेकर कहां बैंकों के चक्कर लगाती फिरूंगी. हीरादेवी जैसे ही न जाने कितने ही घरों में काम करने वाले लोग बैंकों में कैश न होने की वजह से कैशलेस ही रहेंगे क्योंकि जब तक उनके मालिक बैंकों से कैश नहीं निकाल पाएंगे तब तक उन्हें कैश कैसे देंगे।

TOPPOPULARRECENT