Tuesday , October 24 2017
Home / Bihar News / घर से भागी लड़की को वेश्यालय में बेचा

घर से भागी लड़की को वेश्यालय में बेचा

पढ़ाई न करने पर दादी ने डांटा और गुस्से में नाबालिग लड़की अपने लोहानीपुर वाकेय घर से भाग कर पटना जंकशन पहुंच गयी। वहां उसे एक खातून मिली और वह बहला-फुसला कर अपने साथ मुंगेर ले गयी। उस खातून ने उसे मुंगेर के वेश्यालय में बेच दिया और

पढ़ाई न करने पर दादी ने डांटा और गुस्से में नाबालिग लड़की अपने लोहानीपुर वाकेय घर से भाग कर पटना जंकशन पहुंच गयी। वहां उसे एक खातून मिली और वह बहला-फुसला कर अपने साथ मुंगेर ले गयी। उस खातून ने उसे मुंगेर के वेश्यालय में बेच दिया और वहां से फरार हो गयी।

पुलिस की एक टीम पीर को मुंगेर पहुंची और उसे वहां से छुड़ा कर मंगल को पटना ले आयी। एक माह पहले उसके गायब होने के बाद उसके अहले खाना ने कदमकुआं थाने में मुक़ामी नौजवान राकेश कुमार पर अगवा करने का इल्ज़ाम लगाते हुए सनाह दर्ज करायी थी। टाउन डीएसपी बलिराम प्रसाद ने बताया कि तहक़ीक़ात में राकेश की मौलूसीयत सामने नहीं आयी है।

की जाती थी मारपीट

वेश्यालय में उसे यरगमाल बना लिया गया और मारपीट कर किसी भी शख्स से जिस्मानी ताल्लुक बनाने के लिए दबाव दिया जाने लगा। उसने बताया कि मारपीट तो की ही जाती थी और खाना भी नहीं मिलता था।

खातून को खोज रही पुलिस

पुलिस अब उस खातून को खोज रही है, जिसने उसे मुंगेर के वेश्यालय में बेच दिया था। उस खातून के पकड़े जाने के बाद ही उस गिरोह के तमाम मेंबरों को पकड़ा जा सकता है। लड़की से खातून के ताल्लुक में काफी जानकारी हाथ लगी है, जिसकी बुनियाद पर गिरफ्तारी के लिए छापेमारी की जा रही है।

जंकशन इलाके में गिरोह सरगर्म

लड़की के बरामद होने के बाद पुलिस को जो जानकारी मिली है, वह इस बात की तरफ इशारा करती है कि स्टेशन पर इंसानी कारोबार करनेवाले गिरोह सरगर्म हैं। ये गिरोह कम उम्र की लड़कियों को बहला-फुसला कर वेश्यालय में बेच कर फरार हो जाते हैं। इधर, अहले खाना और पुलिस इस मुगालबे में रहती है कि इश्क़ के चक्कर में किसी के साथ भाग गयी है। इससे पुलिस की अमल भी काफी सुस्त रहती है। अब इस मामले पर ही गौर कर लिया जाये, तो यह लड़की एक माह पहले ही अपने घर से गायब हो गयी थी। उसके अहले खाना ने पड़ोस के एक नौजवान पर गायब करने का खदशा जाहिर करते हुए मामला दर्ज करा दिया था। लेकिन, वह गलत खातून के चक्कर में पड़ कर मुंगेर के वेश्यालय में पहुंच चुकी थी। उसे बरामद करने के लिए उसकी चाची रोजाना एसएसपी दफ्तर से लेकर तमाम पुलिस ओहदेदारों के दफ्तर का चक्कर लगा रही थी। आखिर में पुलिस कार्रवाई करते हुए मुंगेर के वेश्यालय तक पहुंच गयी और उसे बरामद कर लिया गया। अगर वह बरामद नहीं होती, तो सभी यह समझते की किसी लड़के के साथ भाग गयी है और वह जिश्म कारोबार के धंधे में शामिल हो जाती।

TOPPOPULARRECENT