Sunday , October 22 2017
Home / Hyderabad News / चारमीनार की तरफ़ जाने वालों के लिये मेटल डिटेक्टर से गुज़रना ज़रूरी

चारमीनार की तरफ़ जाने वालों के लिये मेटल डिटेक्टर से गुज़रना ज़रूरी

चारमीनार के अतराफ़ व अकनाफ़ पुलिस के सख़्त इंतिज़ामात का सिलसिला जारी है । दीवाली के मौक़ा पर पुलिस ने अवाम को किसी क़दर राहत फ़राहम की । ताहम चारमीनार की जानिब सिर्फ़ पैदल चलने वालों को ही जाने की इजाज़त दी गई थी ।

चारमीनार के अतराफ़ व अकनाफ़ पुलिस के सख़्त इंतिज़ामात का सिलसिला जारी है । दीवाली के मौक़ा पर पुलिस ने अवाम को किसी क़दर राहत फ़राहम की । ताहम चारमीनार की जानिब सिर्फ़ पैदल चलने वालों को ही जाने की इजाज़त दी गई थी ।

पुलिस ओहदेदारों ने शाह अली बंडा बस इस्टेशन के करीब एक मेटल डिटेक्टर नसब किया था और गुलज़ार हौज़ की जानिब भी एक मेटल डिटेक्टर लगा दिया गया था । इस में से गुज़र कर ही मर्द-ओ-ख़वातीन को चारमीनार की जानिब जाने की इजाज़त दी जा रही थी ।

मदीना मार्किट , पटेल मार्किट और गुलज़ार हौज़ में मारवाड़ी बिजनसमैन ने सुबह से ही अपनी दुकानात खोल कर दीवाली के वारे में उन की साफ़ सफ़ाई शुरू करदी थी । आज हम ने काफ़ी देर तक चारमीनार के अतराफ़-ओ-अकनाफ़ का जायज़ा लिया ।

पुलिस वीडियो कैमरों के ज़रीया राहगीरों पर नज़र रखे हुए थी । दोपहर के वक़्त लाड बाज़ार की दुक्कानात खोली गएं । लेकिन चारमीनार के अतराफ़ की दुकानात होटलें वगैरह मुकम्मल बंद रहे ।

चारमीनार के सामने बंडियों पर मेवा का कारोबार करने वाले अफ़राद सरदार महल की जानिब बैठे ग्राहकों का इंतिज़ार कर रहे थे । उन लोगों का कहना है कि मेवा सड़ गया है जिस से उन्हें शदीद माली नुक़्सानात का सामना करना पड़ रहा है ।

अवाम में इस बात की भी कियास आराईयां की जा रही हैं कि ये हफ़्ता इसी तरह सख़्त तरीन पुलिस इंतिज़ामात की नज़र होजाएगा और जुमा के बाद ही कोई तबदीली आएगी ।

दूसरी जानिब मदीना मार्किट ता गुलज़ार हौज़ दुकानदारों को उस वक़्त शदीद मायूसी हुई जब पुलिस की गाड़ियों से 6 बजे शाम तक दुकानात बंद करदेने की हिदायात दी जा रही थीं ।

पुलिस बार बार ऐलान कररही थी कि दफ़ा 144 नाफ़िज़ है और दुकानात को 6 बजे शाम तक बंद करदिया जायए । अवाम के ख़्याल में पुलिस को टी वी प्रोग्राम्स और रिपोर्टस का संजीदगी से नोट लेना चाहीए ।

अवाम का यही कहना है कि वो इस तरह की सूरत-ए-हाल से तंग आचुके हैं । बिजनसमैन , तलबा , गरीब ब्योपारी हर कोई चाहता है कि उसे पुरअमन माहौल में सांस लेने की इजाज़त दी जाए ।

फ़िर्कापरस्ती-ओ-शरपसंदी के दलदल में वो हरगिज़ हरगिज़ ग़र्क़ होना नहीं चाहता ।।

TOPPOPULARRECENT