Friday , October 20 2017
Home / Crime / चिट्टी सिंह पूरा क़त्ल-ए-आम की दुबारा तहक़ीक़ात का मुतालिबा

चिट्टी सिंह पूरा क़त्ल-ए-आम की दुबारा तहक़ीक़ात का मुतालिबा

श्रीनगर, ०१ फरवरी: (पी टी आई) कश्मीर में मौजूद एक सिख ग्रुप ने चिट्टी सिंह पूरा सिख क़तल-ए-आम और इस के बाद हुए पाथरी बिल फ़र्ज़ी एनकाउंटर मुआमला की दुबारा तहक़ीक़ात किए जाने का मुतालिबा किया है।

श्रीनगर, ०१ फरवरी: (पी टी आई) कश्मीर में मौजूद एक सिख ग्रुप ने चिट्टी सिंह पूरा सिख क़तल-ए-आम और इस के बाद हुए पाथरी बिल फ़र्ज़ी एनकाउंटर मुआमला की दुबारा तहक़ीक़ात किए जाने का मुतालिबा किया है।

जगमोहन सिंह रावना की क़ियादत वाली ऑल पार्टीज़ सिख कोआर्डीनेशन कमेटी ने सुप्रीम कोर्ट को एक मकतूब तहरीर करते हुए जस्टिस बी ऐस चौहान और शिवा तंत्र कुमार से ख़ाहिश की कि वो मज़कूरा बाला दोनों मुआमलात की दुबारा तहक़ीक़ात करवायें।

चिट्टी सिंह पूरा क़तल-ए-आम जो मार्च 2000 में हुआ था, उस की मुंसिफ़ाना तहक़ीक़ात के ज़रीया ही क़तल-ए-आम के बाद पेश आए वाक़िया की सच्चाई का पता लगाया जा सकता है।

लश्कर-ए-तयबा अस्करीयत पसंदों ने मुबय्यना तौर पर मार्च 2000 में चिट्टी सिंह पूरा में 36 सिखों का क़त्ल-ए-आम किया था और इस वक़्त के अमेरीकी सदर बिल क्लिन्टन के दौरा हिंद के लिए सिर्फ कुछ ही दिन बाक़ी बच्चे थे जबकि फ़ोन ने इद्दिआ किया कि इस के हाथों पाँच अस्करीयत पसंद मारे गए थे, लेकिन इस बात की तौसीक़ नहीं हो सकी थी।

यहां इस बात का तज़किरा भी ज़रूरी है कि 1984 में इस वक़्त की वज़ीर-ए-आज़म इंदिरा गांधी के क़त्ल के बाद नई दिल्ली में भी सिखों का क़त्ल-ए-आम किया गया था।

TOPPOPULARRECENT