Saturday , August 19 2017
Home / India / चीफ़ मिनिस्टर गोवा, छोटी रियासतों की तशकील के हक़ में गोवा की तरक़्क़ी और अवाम की ख़ुशहाली

चीफ़ मिनिस्टर गोवा, छोटी रियासतों की तशकील के हक़ में गोवा की तरक़्क़ी और अवाम की ख़ुशहाली

पनाजी: छोटी रियासतों की हिमायत करते हुए चीफ़ मिनिस्टर गोवा लक्ष्मीकांत पारसेकर ने कहा कि गोवा को मुकम्मल रियासत का दर्जा हासिल करने के बाद ग़ैरमामूली तरक़्क़ी हासिल की है। एक ख़बररसां इदारे के मुलाज़िमीन की यूनीयन के सालाना इजलास आम से मुख़ातिब करते हुए उन्होंने कहा कि मेरे ख़्याल में हर छोटी शए ख़ूबसूरत लगती है।

जब कि मीडिया के नुमाइंदों ने ये सवाल किया कि क्या वो छोटी रियासतों की तशकील और उन्हें दरपेश चैलेंजस की हिमायत करते हैं। उन्होंने छोटी रियासतों के फ़वाइद की निशानदेही करते हुए कहा 1961 मैं जब गोवा का क़ियाम अमल में लाया गया उस वक़्त के चीफ़ मिनिस्टर ने अवाम के इसरार पर कसीर तादाद में सरकारी स्कूलों का इफ़्तेताह किया था अगर गोवा का महाराष्ट्र में इंज़िमाम या मर्कज़ी हुकूमत का ज़ेरे इंतेज़ामिया इलाक़ा होजाता तो ये मुम्किन नहीं होता।

क्यों कि मामूली मंज़ूरियों के लिए मुंबई या दिल्ली के चक्कर लगाने पड़ते। मिस्टर लक्ष्मीकांत पारसेकर जो कि सियासत में दाख़िला से क़ब्ल एक टीचर थे कहा कि गोवा को मुकम्मल रियासत का दर्जा हासिल होने के बाद अवाम की तरक़्क़ी और ख़ुशहाली के लिए बहुत कुछ किया गया।

छोटी रियासतों को दरपेश मसाइल का तज़किरा करते हुए मिस्टर लक्ष्मीकांत पारसेकर ने कहा कि अवाम की ख़ाहिशात की तकमील ब-आसानी की जा सकती है जो कि बड़ी रियासतों में मुश्किल होता है। उन्होंने कहा कि मुश्किलात और मसाइल होने के बावजूद हर छोटी शए ख़ूबसूरत लगती है ये दरयाफ़त किए जाने पर महाराष्ट्र में अलहदा रियासत विदुर्भ की तशकील के लिए बीजेपी के इंतेख़ाबी वादे को रुबा अमल कब लाया जाएगा। पारीकर ने कहा कि मैं उमूमन दीगर रियासतों के माम‌लत में दख़ल अंदाज़ी का क़ाइल नहीं हूँ।

TOPPOPULARRECENT