Thursday , August 17 2017
Home / Sports / चुनाव आया तो बीजेपी सांसद चले दलितों को क्रिकेट टीम में आरक्षण दिलाने

चुनाव आया तो बीजेपी सांसद चले दलितों को क्रिकेट टीम में आरक्षण दिलाने

उत्तरप्रदेश: भाजपा सांसद व ऑल इंडिया कॉन्फेडरेशन ऑफ एससी-एसटी आर्गेनाइजेशन्स के अध्यक्ष उदित राज ने ने खेलों में आरक्षण की मांग पर विस्तार से चर्चा की. जिसमे उनहोंने कहा कि दक्षिण अफ्रीका की तर्ज पर भारत में भी ऐसा होना चाहिए. साथ ही उनहोंने कॉन्फेडरेशन की उत्तर प्रदेश इकाई की बैठक में कहा कि दक्षिण अफ्रीका की तरह टीम में कम से कम छह खिलाडी अश्वेत होने चाहिए.

Facebook पे हमारे पेज को लाइक करने के लिए क्लिक करिये

जनसत्ता के हवाले से, बीजेपी सांसद ने जम्मू कश्मीर क्रिकेट टीम का भी उदाहरण देते हुए कहा कि जम्मू से सात और कश्मीर नौ खिलाडी होते हैं या फिर नौ जम्मू से और सात कश्मीर से होते हैं. हालांकि भारतीय क्रिकेट टीम में ऐसा कोई नियम नहीं है. राज ने कहा कि भारतीय क्रिकेट टीम के सभी खिलाड़ी एक शहर या राज्य से भी चुने जा सकते हैं. यदि दलितों की भागीदारी आरक्षण के जरिए सुनिश्चित की जाए तो भारतीय टीम मजबूत हो सकती है. प्रोन्नति में आरक्षण की वकालत करते हुए उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश में दलित राजनीतिक ही नहीं बल्कि सामाजिक रूप से भी विभाजित हैं. बता दें कि यूपी चुनाव के मद्देनजर दलितों के वोट को अपनी ओर आकर्षित करने के लिए बीजेपी सांसद हरसंभव पहल कर कर रही है.

वहीँ केंद्रीय राज्य मंत्री रामदास अठावले ने भी पिछले दिनों कहा था कि भारतीय क्रिकेट टीम में दलितों का 25 प्रतिशत कोटा होना चाहिए. उन्होंाने कहा था, कई बार भारतीय टीम हारती है. इसलिए आरक्षण होगा तो टीम जीत सकती है. यदि दलित खिलाड़ी को मौका मिलेगा तो अच्छा होगा.

TOPPOPULARRECENT