Tuesday , May 23 2017
Home / Khaas Khabar / चेतन भगत पर चोरी का आरोप, ‘वन इंडियन गर्ल’ के बिक्री पर कोर्ट ने लगाया रोक

चेतन भगत पर चोरी का आरोप, ‘वन इंडियन गर्ल’ के बिक्री पर कोर्ट ने लगाया रोक

मशहूर लेखक चेतन भगत पर बेंगलुरु की रहने वाली एक महिला ने साहित्यिक चोरी का आरोप लगाया है। अनविता वाजपेयी नाम की इस महिला लेखिका ने कोर्ट में एक याचिका दायर कर चेतन की किताब ‘वन इंडियन गर्ल’ के बिक्री पर अस्थाई रोक लगवा दी है।

अनविता वाजपेयी का आरोप है कि अक्टूबर 2016 में रिलिज चेटन भगत का उपन्यास में उनकी शॉर्ट स्टोरी से काफी मेल खाता है। उन्होंने बताया कि साल 2014 में उनकी एक किताब ‘लाइफ, ऑड्स ऐंड एंड्स’ प्रकाशित हुई थी। यह किताब राधिका नाम की एक लड़की और उसकी जिंदगी, परिवार, बॉयफ्रेंड्स पर आधारित थी।

अनविता का कहना है कि जनवरी 2014 में उन्होंने आईआईटी मद्रास में अपनी किताब को लॉन्च किया था। इसी दौरान उन्होंने अपनी किताब की एक कॉपी चेतन भगत को भी दी थी। उन्होंने बताया कि महेश दत्तानी और नवाजुद्दीन सिद्दीकी के अलावा चेतन भी उन चंद लोगों में से एक थे, जिन्हें अनविता ने किताब की एक कॉपी दी थी। उन्होंने कहा, “मैंने उन्हें एक ईमेल लिखकर किताब पर उनकी राय मांगी थी। मैंने उनसे दरख्वास्त की थी कि वह किताब की एक प्रस्तावना लिख दें, लेकिन उनकी तरफ से कोई जवाब नहीं आया।”

अनविता का कहना है कि किसी भी दो कहानियों बीच इतनी समानता नहीं हो सकती। चेतन भगत की कहानी, उसका सीक्वेंस बिलकुल उनकी कहानी जैसा है। अवनिता ने कहा, “मेरी कहानी की मुख्यपात्र एक महिला है जिसके तीन ब्वॉयफ्रेंड होते हैं। आखिर में उसकी शादी तीसरे ब्वॉयफ्रेंड से होती है और उसके पूर्व ब्वॉयफ्रेंड भी शादी में आते हैं। चेतन के नॉवेल में बस महिला पात्र का नाम आलिया से बदलकर राधिका कर दिया गया है।”

वहीं दूसरी तरफ चेतन भगत ने इस आरोप से इंकार किया है। इसके अलावा उन्होंने इसको लेकर एक फेसबुक पोस्ट भी लिखा है। उन्होंने अपने पोस्ट में लिखा है, “मेरी कहानियां बिलकुल मौलिक होती हैं। वन इंडियन गर्ल भी बिलकुल ओरिजिनल है। ये सोचना भी कल्पना से परे है कि मैं ऐसा कुछ कर सकता हूं।” इसके अलावा उन्होंने लिखा, “मेरा अपने पाठकों के साथ भरोसे का रिश्ता है। उसके साथ मैं कभी समझौता नहीं कर सकता।”

उधर अवनिता की याचिका पर कोर्ट ने पाया कि प्रथम द्रष्ट्या में उनके आरोपों में दम है और अगर ‘वन इंडियन गर्ल’ की बिक्री पर अस्थाई रोक नहीं लगाई जाती तो इस तरह की शिकायतों और विवादों का आगे पिटारा खुल सकता है और बाजपेई को ऐसा नुकसान हो सकता है जिसकी आगे भरपाई नहीं हो पाएगी। कोर्ट मामले की सुनवाई एक जून को करेगा।

 

Top Stories

TOPPOPULARRECENT