Tuesday , October 24 2017
Home / Bihar News / चेहरों को लेकर अज़ीम इत्तिहाद में जुबानी जंग, जदयू राजद आमने सामने

चेहरों को लेकर अज़ीम इत्तिहाद में जुबानी जंग, जदयू राजद आमने सामने

पटना : ‘पीएम मेटेरियल’ को लेकर अज़ीम इत्तिहाद में पेंच फंस गया है। जदयू की दिल्ली में हुई बैठक में नीतीश कुमार को ‘पीएम मेटेरियल’ करार दिया गया था। राजद को यह नगवारा गुजरा है। जदयू को नसीहत देते हुए राजद ने कहा कि फिलहाल दूसरे रियासतों के इन्तिखाब से ज्यादा बिहार के तरक्की पर जदयू को तवज्जो देना चाहिए।
बताते चलें कि बिहार एसेम्बली इन्तिखाब के बाद ऐसा लगने लगा था कि इसे दूसरे रियासतों में दोहराया जाएगा। राजद सरबराह लालू प्रसाद की तरफ से दूसरे रियासतों में बैठक और इजलास की तैयारी शुरु कर दी गई थी। लेकिन अब इसमें पेंच फंस गया है।
दरअसल, जदयू की वोर्किंग कमेटी में नीतीश को ‘पीएम मेटेरियल’ करार देते हुए दूसरे रियासतों में अज़ीम इत्तिहाद बनाने और नीतीश कुमार को तरक्की का चेहरा बनाने पर मुहर लगी तो
राजद इससे नाराज हो गया।

राजद ने जदयू के बयान पर पलटवार करते हुए कहा कि दीगर रियासतों में अज़ीम इत्तिहाद के लिए किसी चेहरा को सामने लाने का यह सही वक्‍त नहीं है। अभी हमें सिर्फ बिहार के तरक्की पर ही खुसूसी ज़ेहन देना चाहिए। राजद तर्जुमान मनोज झा ने कहा कि ‘दूसरे रियासतों में इन्तिखाब से पहले अज़ीम इत्तिहाद बनाना तो ठीक है, लेकिन खास चेहरा को प्रोजेक्‍ट करना गलत है। हमें अभी बिहार पर ही ज़ेहन देना चाहिए। लीडर का फैसला ‘सामाजिक-सियासी बुनियाद’ पर होना चाहिए.’

राजद के रियासती सदर रामचंद्र पूर्वे ने लालू को अज़ीम इत्तिहाद का आर्किटेक्ट बताया है। उन्‍होंने कहा कि लालू कोई मामूली लीडर नहीं बल्कि किंगमेकर रहे हैं, बिहार इन्तिखाब में जिस तरह से अज़ीम इत्तिहाद के हक में लोगों ने वोट कराया उससे तय है कि लोग अब मुल्क में भी तबदीली चाह रहे हैं। पूर्वे ने कहा कि मुल्क बीजेपी और आरएसएस के खिलाफ लालू की कियादत चाहता है। हमारा तंज़ीम 21 रियासतों में है। अज़ीम इत्तिहाद की जीत के बाद मुल्क और दुनिया की नजर लालू पर जा टिकी है। लोगों को फिर से अहसास हो गया है कि लालू कौमी सतह के लीडर हैं।

TOPPOPULARRECENT