Thursday , August 24 2017
Home / Delhi News / चैनलों पर बैन के खिलाफ संसद सत्र में सरकार को घेरने के लिए विपक्ष कर रही तैयारी

चैनलों पर बैन के खिलाफ संसद सत्र में सरकार को घेरने के लिए विपक्ष कर रही तैयारी

नई दिल्ली। पठानकोट आतंकी हमले की कवरेज को लेकर समाचार चैनल एनडीटीवी इंडिया पर एक दिन का प्रतिबंध लगाने के खिलाफ राजनीतिक दलों ने भी केन्द्र सरकार की घेरेबंदी करने का एलान किया है। इस प्रतिबंध को विपक्षी पार्टियों ने संसद के शीत सत्र के दौरान मीडिया की जुबान बंद करने की सरकार की कोशिश के रुप में पेश करते हुए जोर-शोर से उठाने की तैयारी भी शुरू कर दी है। कांग्रेस ने इस प्रकरण में विपक्षी दलों की अगुवाई करने की पहल करने के अपने इरादे साफ करते हुए कहा है कि वामदल, तृणमूल कांग्रेस, जनता दल यूनाइटेड और समाजवादी पार्टी जैसी पार्टियां मीडिया पर पाबंदी के खिलाफ एकमत हैं।

जागरण के मुताबिक, कांग्रेस प्रवक्ता मनीष तिवारी ने पार्टी की नियमित ब्रीफिंग के दौरान कहा कि एनडीटीवी इंडिया पर इसे केवल एक दिन के प्रतिबंध के रुप में नहीं देखा जा सकता। बल्कि यह मीडिया की आजादी को चंगुल में बांधने जैसा है। उन्होंने कहा कि इसके जरिए सरकार ने मीडिया को साफ संदेश दिया है कि वह उसकी लाइन पर चले या फिर शूट होने के लिए तैयार रहे। तिवारी ने कहा कि मीडया जगत को सरकार के इस कदम को बेहद गंभीरता और संवेदनशीलता से लेना चाहिए वरना जो आज एनडीटीवी के साथ हुआ है वह कल आपके साथ होगा। सूचना प्रसारण मंत्री वैंकैया नायडू के राष्ट्र हित में मीडिया के लिए मानक रेखा तय करने के तर्क को खारिज करते हुए उन्होंने कहा कि सरकार अंतर मंत्रालयी समिति की आड़ में अपने इस कदम को छुपा नहीं सकती।

कांग्रेस संसद में इस मुद्दे पर यूपीए के अपने घटकों के अलावा विपक्ष के अन्य दलों से चर्चा कर सरकार को घेरने के लिए संयुक्त रणनीति बनाने की भी कोशिश करेगी। मनीष तिवारी ने पार्टी के इस इरादे को जाहिर करते हुए कहा कि बेशक यह लोकतांत्रिक व्यवस्था में अभिव्यक्ति की आजादी पर चोट है। इसीलिए संसद में इतने अहम मुद्दे को भला कैसे नहीं उठाया जा सकता। उन्होंने कहा कि सरकारों को मीडिया से परेशानी होती है और यूपीए सरकार को भी हुई थी। 26/11 के मुंबई आतंकी हमले के कवरेज के दौरान भी ऐसा हुआ था मगर हमने ऐसा कोई कदम उठाने से परहेज किया जिससे मीडिया की न्यूज कवरेज की कोई सीमा रेखा निर्धारित की जाए।
Courtesy- jagran

TOPPOPULARRECENT