Wednesday , September 20 2017
Home / India / छत्तीसगढ़ के एसपी आरिफ हुसैन को अमेरिका में मिला इंटरनेशनल अवार्ड

छत्तीसगढ़ के एसपी आरिफ हुसैन को अमेरिका में मिला इंटरनेशनल अवार्ड

बालोद: छत्तीसगढ़ के बालोद जिले में कम्यूनिटी पुलिसिंग के लिए जिले के तत्कालीन एसपी शेख आरिफ हुसैन को इंटरनेशनल एसोशिएसन ऑफ चीफ ऑफ पुलिस (आईएसीपी) के प्रतिष्ठित अंतरराष्ट्रीय अवार्ड से नवाजा गया है.
आईपीएस शेख आरिफ हुसैन ने कैलिफोर्निया में विश्वभर से आए पुलिस अधिकारियों को सामुदायिक पुलिसिंग में खुद के प्रयोग बताए. कैसे बालोद जिले की जनता का भरोसा जीता यह भी साझा किया, इस उपलब्धि पर मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने हुसैन को फोन पर बधाई दी.

Facebook पे हमारे पेज को लाइक करने के लिए क्लिक करिये

नई दुनिया के अनुसार, शनिवार को न्यू ओरलेंस पोलिस डिपार्टमेंट द्वारा अमेरिका के कैलिफोर्निया में आयोजित अवार्ड सरेमनी में आईपीएस शेख आरिफ हुसैन को कम्यूनिटी पुलिसिंग के चीफ हेड रोनल सेरपस, विर्जिनिया पुलिस के चीफ व अवार्ड सलेक्शन कमेटी के हेड जमेस फॉक्स, लंदन पुलिस असिस्टेंट कमिश्नर रैल्फ स्मिथ ने आईएसीपी अवार्ड से सम्मानित किया.
आरिफ वर्तमान में बलौदाबाजार के एसपी हैं. उन्होंने बालोद में पदस्थ रहने के दौरान मिशन जीव दया, ई रक्षा व पूर्ण शक्ति नाम के तीन कार्यक्रम चलाए. कम्यूनिटी पुलिसिंग के उनके इस काम के लिए इससे पहले राष्ट्रीय स्तर पर भी पुरस्कार मिल चुका है.
125 वर्ष पुरानी संस्था इंटरनेशनल एसोसिएशन ऑफ चीफ ऑफ पुलिस का मुख्यालय वर्जीनिया (यूएसए) में है. संस्था 18 वर्ष से सामुदायिक पुलिसिंग में पुरस्कार दे रही है, जो इस क्षेत्र का अंतराराष्ट्रीय स्तर पर सर्वोच्च पुरस्कार है.

मीडिया से बात चीत में उन्होंने ने कहा कि कहने को तो यह पुरस्कार बालोद पुलिस को मिला है, परन्तु इसकी असली हकदार बालोद की जनता व बालोद पुलिस का एक-एक जवान और वे ऑफिसर्स हैं, जिन्होंने कल्पना को हकीकत में बदलने में मेरा मनोबल बढ़ाया. उनहोंने यह भी कहा कि जब मैंने भारतीय पुलिस और अपने प्रयास की जानकारी दी तो वहां के अधिकारियों ने ताली बजाकर सराहना की.
जब उन से पूछा गया कि पुरुस्कार लेते वक्त आप कैसा महसूस कर रहे थे? तो उसके जवाब में उनहोंने कहा कि मुझे ऐसा लग रहा था कि यह आयोजन कैलिफोर्निया के बजाय दिल्ली के लाल किले में होना था ताकि मेरे देश की जनता देख पाती. आगे उनहोंने ने कहा कि जैसे ही अवार्ड लेकर मैं मंच से उतरा, मेरी पत्नी दर्शक दीर्घा से मेरी ओर दौड़ पड़ी. मुझसे गले लगकर खुशी के मारे रो पड़ीं. मेरी आंखें भी डबडबा गई.

TOPPOPULARRECENT