Wednesday , September 20 2017
Home / Delhi / Mumbai / छात्रों पर जुर्माना लगाने के लिए जवाहरलाल नेहरू प्रशासन प्रतिशोध

छात्रों पर जुर्माना लगाने के लिए जवाहरलाल नेहरू प्रशासन प्रतिशोध

नई दिल्ली: जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय के 3 छात्रों के लिए प्रतिबंध लगाने और स्टूडेंट्स नेता कन्हैया कुमार पर जुर्माना लगाने के मुद्दे को राज्यसभा में उठाते हुए वामपंथी दलों ने आज कहा कि यह जुर्माना और प्रतिबंध दरअसल छात्रों के साथ बदले की कार्रवाई के बराबर है। जब सदन की कार्यवाही शुरू हुई कुछ नए सदस्यों ने सहयोग लिया उसके बाद आज की कार्रवाई के कागजात की सूची की पेशकश की। सीपीएम‌ के तपन कुमार सेन ने कहा कि उन्होंने नियम 267 के तहत एक नोटिस दिया है जिसमें सदन की कार्यवाही स्थगित कर जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय के अधिकारियों की ओर से छात्रों के खिलाफ की गई कार्रवाई जैसे ” गंभीर समस्या ‘ ‘उठाया जा सके।

जेएनयू अधिकारियों की यह हरकत दमनकारी और अलोकतांत्रिक है। उन्होंने उमर‌ खालिद को एक सेमेस्टर तक रोक देना, अनीरबन भट्टाचार्य को 15 जुलाई तक रोक देना, कश्मीरी छात्रों मुजीब गयतो दो समसीटरों के लिए मना कर दिया अलावा कन्हैया कुमार पर 10 हजार रुपये का जुर्माना लगाया करना सरासर दुरुपयोग है बल्कि विश्वविद्यालय अधिकारियों इस प्रतिशोध है जो किसी भी मामले में अन्यायपूर्ण करार दिया जाता है।

यह सरकार की इन कोशिशों का हिस्सा है जो चाहता है कि छात्रों और नागरिकों के अधिकारों को छीन ले। संविधान के नाम पर ये लोग अज़सुद संविधान के साथ खिलवाड़ कर रहे हैं। तपन सेन ने कहा कि यूनवीरस्टे के अधिकारियों के इस कदम के खिलाफ आवाज उठाई जानी चाहिए। इन छात्रों को इसलिए सजा दी जा रही है क्योंकि उन्होंने 2001 के संसद हमले मामले के दोषी मृतक अफजल गुरु के समर्थन में नारे लगाए थे।

अफजल गुरु को फरवरी 2013 में फांसी पर लटकाया गया था। भाकपा के डी राजा ने कहा कि संसद इस समय मूकदर्शक बने नहीं बैठ सकती जब विश्वविद्यालय अपने छात्रों पर प्रतिबंध लगाते हुए उनसे बदला ले। विश्वविद्यालय ने झूठे वीडियो और विकृत वीडियो के आधार पर यह कार्रवाई की है।

राज्यसभा के उप चेयरमैन पी जे कोरियाई ने राजा की ओर से विश्वविद्यालय के खिलाफ किए गए कुछ टिप्पणियों को हटा दिया और कहा कि जब उनके प्रतिनिधि स्वयं बचाव नहीं कर सकते तो इस तरह के कड़े शब्दों का इस्तेमाल नहीं किया जाना चाहिए। विपक्षी नेता गुलाम नबी आजाद ने कहा कि हम अपने सहयोगियों का पूरा समर्थन करते हैं। कुर्सी अध्यक्षता की ओर से इस नोटिस पर कोई रोलिंग नहीं दी गई जिस पर कांग्रेस सदस्यों ने कार्यवाही चलने नहीं दी तो सदन की कार्यवाही स्थगित कर दी गई।

TOPPOPULARRECENT