Thursday , October 19 2017
Home / Khaas Khabar / जमाते इस्लामी पाकिस्तान के साबिक़ अमीर क़ाज़ी हुसैन का इंतिक़ाल

जमाते इस्लामी पाकिस्तान के साबिक़ अमीर क़ाज़ी हुसैन का इंतिक़ाल

जमाते इस्लामी के साबिक़ अमीर क़ाज़ी हुसैन अहमद 74 साल की उम्र में इंतिक़ाल कर गए। क़ाज़ी हुसैन अहमद दिल के आरिज़े में मुबतला थे। दिल का दौरा पड़ने के बाद उन्हें ईलाज के लिए ईस्लामाबाद मुंतक़िल किया गया जहां वो इंतिक़ाल कर गए। उन की

जमाते इस्लामी के साबिक़ अमीर क़ाज़ी हुसैन अहमद 74 साल की उम्र में इंतिक़ाल कर गए। क़ाज़ी हुसैन अहमद दिल के आरिज़े में मुबतला थे। दिल का दौरा पड़ने के बाद उन्हें ईलाज के लिए ईस्लामाबाद मुंतक़िल किया गया जहां वो इंतिक़ाल कर गए। उन की नाश पिशावर मुंतक़िल की जा रही है।

उन की नमाज़ जनाज़ा आज पिशावर में अदा की गई। क़ाज़ी हुसैन अहमद मार्च 2009 में जमात इस्लामी के अमीर के ओहदे से सुबुकदोश हुए थे। गुज़िश्ता साल उन्होंने मिली यकजहती कौंसिल के सरबराह की हैसियत से मज़हबी जमातों को फ़आल किया। वो पहली मर्तबा 1927 में जमात इस्लामी के अमीर बने।

इतवार की रात 12 बजे के क़रीब उन की तबीयत अचानक बिगड़ गई और दिल का ख़तरनाक दौरा पड़ा जो जान लेवा साबित हुआ। इसी दौरान जमात उलमाए इस्लाम के सरबराह मौलाना फ़ज़ल उर्रहमान ने क़ाज़ी हुसैन अहमद की वफ़ात पर इज़हार ताज़ियत किया है।

जमात उलमाए इस्लाम के सरबराह मौलाना फ़ज़ल उर्रहमान और दीगर रहनुमा ने पिशावर से जारी ताज़ियती ब्यान में क़ाज़ी हुसैन अहमद की वफ़ात को सानिहा क़रार दिया है। मौलाना फ़ज़ल उर्रहमान ने क़ाज़ी हुसैन अहमद के बेटे लुकमान क़ाज़ी से फ़ोन पर बात भी की, और उन के वालिद की वफ़ात पर इज़हार अफ़सोस किया।

शेख़ अमान उल्लाह और जेयू आई ख़ैबर पख़तूनख़ाह के तर्जुमान मौलाना जलील जान ने भी क़ाज़ी हुसैन अहमद की वफ़ात पर इज़हारअफ़सोस किया है।

TOPPOPULARRECENT