Monday , October 23 2017
Home / Hyderabad News / जम्मू-ओ-कश्मीर की हालत इंतिहाई खराब

जम्मू-ओ-कश्मीर की हालत इंतिहाई खराब

कश्मीर में सैलाब के मुतास्सिरीन की हालत आए दिन अबतर होती जा रही है। सूरत-ए-हाल का जायज़ा लेने वाली एजेंसीयां भी मुतास्सिरीन तक रसाई में नाकाम हैं।

कश्मीर में सैलाब के मुतास्सिरीन की हालत आए दिन अबतर होती जा रही है। सूरत-ए-हाल का जायज़ा लेने वाली एजेंसीयां भी मुतास्सिरीन तक रसाई में नाकाम हैं।

जो तंज़ीमें इमदादी कामों के सिलसिला में कश्मीर का रुख़ कर रही हैं, वो भी एयरपोर्ट के अतराफ़ ज़्यादा से ज़्यादा पाँच कीलो मीटर तक रसाई हासिल करने में कामयाब हैं चूँकि इमदादी कामों के लिए रवाना होने वाली तंज़ीमों के ज़िम्मा दारान का एहसास है कि जो पानी श्रीनगर में जमा है इस सूरत-ए-हाल को देखते हुए मज़ीद आगे नहीं बढ़ा जा सकता।

हकूमत-ए-हिन्द की जानिब से कश्मीर सैलाब मुतास्सिरीन के लिए बरवक़्त इमदाद का ऐलान क़ाबिल-ए-सताइश है ताहम कश्मीर के बहुत सारे देहातों तक ये इमदाद नहीं पहूंच पारही है।

मुस्लिम ऐड (यूके) के नुमाइंदा हिंद जनाब मिर्ज़ा फ़िरोज़ बैग ने दो यौम क़ब्ल कश्मीर का दौरा करते हुए अदवियात पहुंचाएं लेकिन उन्हों ने जो तास्सुरात का इज़हार किया इस से ये वाज़ेह होता है कि जम्मू-ओ-कश्मीर की हालत इंतिहाई खराब हो चुकी है।

बताया जाता है कि सैलाब में फंसे अफ़राद तक इमदाद रसानी का अमल तक़रीबन नामुमकिन नज़र आरहा है। जो इमदाद अफ़्वाज के ज़रीया रवाना की जा रही हैं वो फंसे हुए अफ़राद तक पहूंचना ज़रूरी नहीं है क्योंकि बज़रीया हैलीकाप्टर जो इमदाद फेंकी जा रही है वो पानी में गिरने से ज़ाए होजाती हैं।

ईसी तरह जो लोग बीमार हैं उन तक अदवियात का पहूंचना नागुज़ीर है लेकिन कोई तिब्बी माहिरीन की टीम उन तक पहूंचने से क़ासिर है। उन्हों ने बताया कि मुस्लिम ऐड (यूके) की जानिब से कश्मीर और हिंदूस्तान में दीगर फ़लाही तंज़ीमों के हमराह तआवुन-ओ-इश्तिराक के मुताल्लिक़ मंसूबा बंदी की जा रही है।

और मुस्लिम ऐड (यूके) के मेयारात पर उतरने वाले फ़लाही इदारों के हमराह इश्तिराक के साथ कश्मीर में फ़लाही सरगर्मीयों के आग़ाज़ का अमली मंसूबा तैय्यार करते हुए तबाह हाल कश्मीरीयों की इमदाद का जल्द अज़ जल्द आग़ाज़ किया जाएगा।

TOPPOPULARRECENT