Tuesday , October 17 2017
Home / India / जम्मू-ओ-कश्मीर में पुलिस अहलकारों-ओ-आफ़िसरान को ख़ुसूसी तर्बीयत

जम्मू-ओ-कश्मीर में पुलिस अहलकारों-ओ-आफ़िसरान को ख़ुसूसी तर्बीयत

जम्मू ०९ दिसम्बर, ( पी टी आई) जम्मू-कश्मीर पुलिस को रियासत में मुख़्तलिफ़ नौईयत के एहतिजाज के दौरान कभी कभी मुश्तइल और तशद्दुद पर उतर आने वाले एहितजाजियों को कंट्रोल करने के लिए ग़ैर मोहलिक हथियारों और गोला बारूद से लैस किया जाएगा ता

जम्मू ०९ दिसम्बर, ( पी टी आई) जम्मू-कश्मीर पुलिस को रियासत में मुख़्तलिफ़ नौईयत के एहतिजाज के दौरान कभी कभी मुश्तइल और तशद्दुद पर उतर आने वाले एहितजाजियों को कंट्रोल करने के लिए ग़ैर मोहलिक हथियारों और गोला बारूद से लैस किया जाएगा ताकि इस बात को यक़ीनी बनाया जा सके कि एहतिजाज के दौरान दोनों तरफ़ यानी पुलिस और एहितजाजियों की सफ़ों में कोई हलाकत ना हो और ज़ख़मी होने वालों की तादाद भी कम से कम हो।

दरीं असना डायरैक्टर जनरल आफ़ पुलिस (DGP) कुलदीप खोडा ने कहा कि पुलिस के ज़रीया ग़ैर मोहलिक हथियारों और जिस्म का दिफ़ा करनेवाली ढालों के इस्तिमाल के बाद ला ऐंड आर्डर बिगड़ने की सूरत में हुजूम को कंट्रोल करने के दौरान ज़ख़मी होने वालों का तनासुब सिफ़र रहा। जिन ग़ैर मोहलिक हथियारों को मुतआरिफ़ किया जा रहा है इन में ब्लास्ट डसपरसल कार्टरेजस (BDC), व्हीकल माउनटॆड् टयुटर। असमोक डेव आइसीस और एस्टन लॉक दस्ती बम शामिल हैं।

डी जी पी ने पी टी आई से बात करते हुए कहा कि माज़ी में इस्तिमाल किए जाने वाले ग़ैर मोहलिक हथियारों के इलावा मुंदरजा बाला ग़ैर मोहलिक हथियारों की तादाद उन के इलावा है।उन्होंने कहाकि इलावा अज़ीं रियास्ती पुलिस ने ला ऐंड आर्डर से निमटने के लिए पाँच ख़ुसूसी बटालियन की तशकील भी की है ताकि जम्मू-ओ-कश्मीर में एहितजाजियों के साथ बख़ूबी निमटा जा सकी। ग़ैर मोहलिक हथियार चलाने के लिए कुछ जवानों और आफ़िसरान को ख़ुसूसी तर्बीयत दी जाएगी ताकि उन के इस्तिमाल से एहतिजाज के दौरान किसी भी फ़र्द या एहितजाजी के ज़ख़मी होने का कोई जवाज़ ना रहे। ग़ैर मोहलिक हथियारों में बॉडी प्रो टैक्टरस, पाली कार्बोनेट शील्ड्स, पाली कार्बोनेट लाठीयां और हेल्मटस के आर्डर दिए गए हैं।

इन के इलावा बुलेटप्रूफ बंकरस, पंप ऐक्शण गिनिस, आबी तोपें, ऐन्टी रयाट राइफ़ल्ज़, रबर बुलेटस और प्लेट्स भी शामिल हैं। यहां इस बात का तज़किरा ज़रूरी है कि पुलिस को हालिया दिनों में अंधा धुंद फायरिंग किए जाने पर तन्क़ीदों का निशाना बनाया जाता रहा है। हालाँकि पुलिस अहलकार भी अपने आला आफ़िसरान के हुक्म पर फायरिंग करते हैं।

TOPPOPULARRECENT