Thursday , October 19 2017
Home / Crime / जम्मू-ओ-कश्मीर हुकूमत की लापरवाही से तशद्दुद फैला

जम्मू-ओ-कश्मीर हुकूमत की लापरवाही से तशद्दुद फैला

बी एस पी ने आज रियासत जम्मू-ओ-कश्मीर में ये कह कर सदर राज लागू करने का मांग‌ किया कि हुकूमत की ना एहली की वजह से कशटवार में अब तक तशद्दुद पर क़ाबू नहीं पाया जा सका।

बी एस पी ने आज रियासत जम्मू-ओ-कश्मीर में ये कह कर सदर राज लागू करने का मांग‌ किया कि हुकूमत की ना एहली की वजह से कशटवार में अब तक तशद्दुद पर क़ाबू नहीं पाया जा सका।

पार्लियामेंट के बाहर बी एस पी सरबराह मायावती ने कहा जम्मू-ओ-कश्मीर हुकूमत को खत्म‌ किया जाना चाहिए और वहां सदर राज लागू किया जाना चाहिए। उन्होंने एक बार फिर कशटवार में जारी तशद्दुद का तज़किरा करते हुए कहा कि हुकूमत को पहले ही दिन सख़्त कार्रवाई करते हुए तशद्दुद पर क़ाबू पाना चाहिए था और हुकूमत की लापरवाही की वजह से ही हालात ज़्यादा बिगड़ गए।

मर्कज़ी हुकूमत की भी ये ज़िम्मेदारी है कि वो जम्मू-ओ-कश्मीर में अमन-ओ-अमान के कायम‌ केलिए मुनासिब‌ रोल अदा करे और अब ज़रूरत इस बात की है तशद्दुद के वाक़ियात की आला सतही तहकीकात का हुक्म दिया जाये। मायावती ने जम्मू-ओ-कश्मीर के वज़ीर दाख़िला सज्जाद अहमद किचलू को भी तन्क़ीद का निशाना बनाया और कहा कि किसी भी रियासत के वज़ीर दाख़िला की ये ज़िम्मेदारी होती है कि वो ला ऐंड आर्डर को यक़ीनी बनाए।

सज्जाद अहमद का ताल्लुक़ भी कशटवार से है और जिस दिन तशद्दुद का वाक़िया रूनुमा हुआ, वह‌ कशटवार में ही मौजूद थे। अगर वो चाहते तो तशद्दुद पर फ़ौरी क़ाबू पाया जा सकता था लेकिन अफ़सोस ऐसा नहीं हुआ और कई दोकानात को आग लगा दिया गया जिस में बहुत से अफ़राद ज़ख़मी हुए।

मायावती ने इस बात पर ज़ोर दिया कि गड़बड़ ज़दा इलाक़ों में अमन को बहाल किया जाये। उन्होंने कहा कि तशद्दुद में उन की पार्टी के डिस्ट्रिक्ट सदर का बेटा भी हलाक हुआ है। वहां सूरत-ए-हाल बहुत ख़राब है जिस का अंदाज़ा इस बात से लगाया जा सकता है कि सात जिले में कर्फ्यू नाफ़िज़ किया गया है जो किसी भी मसला का हल नहीं होसकता।

उन्होंने तशद्दुद के वाक़ियात की अदालती तहकीकात का हवाला देते हुए कहा काह वज़ीर आला उमर‌ अबदुल्लाह ने अदालती तहकीकात का हुक्म ज़रूर दिया है लेकिन हम देखते आए हैं कि इस तरह‌ की तहकीकात अक्सर सर्द ख़ाने की नज़र होजाती है।

TOPPOPULARRECENT