Wednesday , October 18 2017
Home / India / जम्मू-कश्मीर में इंतेख़ाबात केलिए हालात साज़गार नहीं : उमर अब्दुल्लाह

जम्मू-कश्मीर में इंतेख़ाबात केलिए हालात साज़गार नहीं : उमर अब्दुल्लाह

वज़ीर-ए-आला जम्मू-ओ-कश्मीर उमर अब्दुल्लाह ने आज एक अहम बयान देते हुए कहा कि रियासत के हालात असेम्बली इंतेख़ाबात मुनाक़िद करवाने केलिए साज़गार नहीं हैं। वज़ीर-ए-दाख़िला राजनाथ सिंह से मुलाक़ात के बाद अख़बारी नुमाइंदों से बात करते हुए

वज़ीर-ए-आला जम्मू-ओ-कश्मीर उमर अब्दुल्लाह ने आज एक अहम बयान देते हुए कहा कि रियासत के हालात असेम्बली इंतेख़ाबात मुनाक़िद करवाने केलिए साज़गार नहीं हैं। वज़ीर-ए-दाख़िला राजनाथ सिंह से मुलाक़ात के बाद अख़बारी नुमाइंदों से बात करते हुए उन्होंने कहा कि रियास्ती हुकूमत हालाँकि इस मौक़िफ़ में है कि इंतेख़ाबात मुनाक़िद करवासके लेकिन मर्कज़ को ये फ़ैसला करना चाहिए कि क्या असेम्बली इंतेख़ाबात केलिए हालात साज़गार हैं? उमर अब्दुल्लाह ने मज़ीद कहा कि क़तई फ़ैसला इलेक्शन कमीशन के इख़तेयार में है।

उन्होंने कहा कि उनकी पार्टी ( नेशनल कान्फ्रेंस‌ ) ने वाज़िह कर दिया है कि वो इंतेख़ाबात की हामी नहीं है क्योंकि सेलाब के बाद तबाह हाल अवाम मामूल की ज़िन्दगी पर वापिस आने केलिए जद्द-ओ-जहद कररहे हैं। याद रहै कि जम्मू-कश्मीर की 87 रुकनी असेम्बली की 6 साला मीयाद 19 जनवरी 2015 को इख़तेताम पज़ीर होरही है।

उन्होंने कहा कि हालिया सेलाब ने सिर्फ़ देही इलाक़ों को ही नहीं बल्कि वादी कश्मीर की कसीर आबादी वाले इलाक़ों को भी शदीद मुतास्सिर किया। ऐसी आफ़त-ए-नागहानी के वक़्त इंतेख़ाबात मुनाक़िद करवाना अवाम को मज़ीद मुश्किलात में डालने के मुतरादिफ़ है लिहाज़ा इलेक्शन कमीशन से नेशनल कान्फ्रेंस‌ ने वज़ाहत करदी है कि वो फ़िलहाल इंतेख़ाबात मुनाक़िद करने की हिमायत नहीं करेगी।

TOPPOPULARRECENT