Tuesday , August 22 2017
Home / India / जयपुर में हिन्दू और मुस्लिम पतियों ने एक दूसरे की पत्नी को किडनी डोनेट कर धार्मिक सद्भाव की एक बेहतरीन मिसाल पेश की

जयपुर में हिन्दू और मुस्लिम पतियों ने एक दूसरे की पत्नी को किडनी डोनेट कर धार्मिक सद्भाव की एक बेहतरीन मिसाल पेश की

जयपुर(राजस्थान) : जयपुर में एक निजी अस्पताल में धार्मिक सद्भाव की एक बेहतरीन मिसाल पेश करते हुए 40 वर्षीय अनवर अहमद ने विनोद मेहरा की पत्नी को अपनी किडनी डोनेट की और विनोद मेहरा ने अनवर की पत्नी को अपनी किडनी डोनेट की |

अहमद ने कहा की हम अब और अधिक ख़ुशी के साथ ईद –उल-अज़हा मनायेंगें विनोद का बहुत बहुत शुक्रिया की उन्होंने मेरी पत्नी को किडनी दान दी मेरी पत्नी का स्वास्थ्य अब ठीक है उसे ईद –उल-अज़हा से एक एक दिन पहले अस्पताल से छुट्टी मिल जाएगी। मैंने विनोद भाई के इस एहसान के बदले उनकी पत्नी को अपनी किडनी डोनेट की है |

मेहरा ने भी बहुत जो खुशी जताते हुए कहा कि अगर अहमद के लिए ये ईद –उल-अज़हा है तो मेरे लिए ये दिवाली से कम नहीं है मेरी पत्नी को भी जल्दी ही अस्पताल से छुट्टी दे दी जाएगी | उसे किडनी ट्रांसप्लांट सर्जरी में अहमद भाई की किडनी मिली है | मेरे लिए हिंदू-मुसलमान भाई-भाई हैं। मैंने अपने जीवन में किसी प्रकार का भेदभाव कभी नहीं सोचा था और न ही मैं अपने जीवन में ऐसा कभी सोचूंगा |लेकिन इस ट्रांसप्लांट के बाद हम दोनों परिवार के बीच अटूट संबंध क़ायम हो गये हैं |

डॉ आशुतोष सोनी, जिन्होंने ये सर्जरी की बताया कि विनोद की पत्नी अनीता पिछले कुछ वर्षों किडनी फ़ैल हो जाने से होने वाली बीमारी ग्लोमेरुलर रोग से पीड़ित थीं । उनका ब्लड ग्रुप B पाज़िटिव था जबकि विनोद का ब्लड ग्रुप A पाज़िटिव था। इसके अलावा, अहमद की पत्नी तस्लीम जहाँ के ज़्यादा पैन किलर खाने की वजह से किडनी फ़ैल हो गयी थी । उनका ब्लड ग्रुप A पाज़िटिव और अहमद ब्लड ग्रुप B पाज़िटिव था । मानव अंग प्रत्यारोपण अधिनियम के तहत केवल निकट रिश्तेदारों को ही किडनी डोनेट की जा सकती है लेकिन इन दोनों जोड़ों के लिए स्वैप किडनी ट्रांसप्लाट एकदम सही था ।  अहमद का ब्लड ग्रुप और अनीता का ब्लड ग्रुप एक था और तस्लीम का ब्लड ग्रुप और विनोद का ब्लड ग्रुप एक था इसलिए 2 सितंबर ये ट्रांसप्लांट किया गया जो कामयाब रहा |

 

 

TOPPOPULARRECENT