Monday , September 25 2017
Home / Religion / जर्मनी में मुस्लिम शरणार्थी को बनाया जा रहा है ईसाई

जर्मनी में मुस्लिम शरणार्थी को बनाया जा रहा है ईसाई

बर्लिन : कुछ मुस्लिम शरणार्थी को बर्लिन के एक चर्च में ईसाई बनाया जा रहा है, वे लोग खुद वहाँ अपना धर्म बदलने आए थे. वे जर्मन नहीं थे. शरणार्थी थे. उनका धर्म इस्लाम था. 2015 में जर्मनी में लगभग नौ लाख शरणार्थी आए हैं. चर्च के अधिकारियों का कहना है कि बहुत बड़ी संख्या में तो नहीं लेकिन कुछ लोग धर्म बदल रहे हैं. हालांकि कोई आंकड़ा उपलब्ध नहीं कराया गया है. चर्च के अधिकारी इस बात से भी इनकार नहीं करते कि कुछ मामलें में धर्मांतरण के पीछे दूसरी वजह भी हैं जैसे कि इससे वे जर्मन समाज में जल्दी घुल मिल जाएंगे या फिर उनके शरण पाने की संभावना बढ़ जाएगी.

दक्षिण-पश्चिम जर्मनी के स्पेयर में एक चर्च के पादरी फेलिक्स गोल्डलिंगर बताते हैं, “हमारे चर्च में ऐसे कई शरणार्थी समूह हैं जो धर्मांतरण की तैयारी कर रहे हैं. “गोल्डलिंगर कहते हैं कि ज्यादातर लोग ईरान और अफगानिस्तान के हैं लेकिन कुछ सीरिया या इरिट्रिया के भी हैं. ऐसा नहीं है कि इन्हें एकदम ईसाई बना दिया जाता है. धर्मांतरण की तैयारी लगभग एक साल तक चलती है. इस दौरान धर्मांतरण चाहने वाले लोगों से कहा जाता है कि वे धर्म बदलने की अपनी इच्छा को खूब ठोक-बजाकर देख लें. गोल्डलिंगर बताते हैं, “जरूरी है कि इस दौरान ये लोग वे अपने धर्म इस्लाम को जांचें परखें और उन कारणों पर विचार करें जो उन्हें ईसाइयत अपनाने को तैयार कर रहे हैं. जाहिर है हम खुश हैं कि लोग ईसाइयत अपना रहे हैं. लेकिन यह बहुत जरूरी है कि वे अपने फैसले को लेकर पूरी तरह सुनिश्चित हों.”

लिंके बताते हैं कि धर्मांतरण करने वाले कुछ लोग तो ऐसे हैं जो ईरान में चर्च के संपर्क में थे लेकिन वहां धर्मांतरण पर पाबंदी है. इसलिए उन्हें वहां से भागना पड़ा. बहुत से लोग ऐसे भी हैं जो यूरोप के रास्ते में ईसाइयों से मिले. ऐसा ही मामला 31 साल के इंजीनियर सईद का है जो चार महीने तक तुर्की में रहे हैं. अफगानिस्तान से आए सईद तुर्की में ईसाइयों के संपर्क में आए और तब ईसाइयत में उनकी दिलचस्पी बढ़ने लगी.

TOPPOPULARRECENT