Thursday , October 19 2017
Home / Sports / जर्मनी में पुरजोश शायक़ीन का जश्न और आतिशबाज़ी

जर्मनी में पुरजोश शायक़ीन का जश्न और आतिशबाज़ी

अर्जनटीना के ख़िलाफ़ तारीख़ साज़ कामयाबी और चौथी मर्तबा जर्मनी की टीम आलमी चैंपिय‌न बनने के बाद मुल्क के सदर मुक़ाम बर्लिन में सारी रात फुटबॉल शायक़ीन जश्न मनाते रहे और मुख़्तलिफ़ मुक़ामात पर उस तारीख़ साज़ कामयाबी की ख़ुशी में आतिशबाज़

अर्जनटीना के ख़िलाफ़ तारीख़ साज़ कामयाबी और चौथी मर्तबा जर्मनी की टीम आलमी चैंपिय‌न बनने के बाद मुल्क के सदर मुक़ाम बर्लिन में सारी रात फुटबॉल शायक़ीन जश्न मनाते रहे और मुख़्तलिफ़ मुक़ामात पर उस तारीख़ साज़ कामयाबी की ख़ुशी में आतिशबाज़ी भी देखी गई।

अवाम सड़कों पर जश्न मनाने के इलावा अपने क़ौमी पर्चम के साथ घूमते हुए एक दूसरे को कामयाबी पर मुबारकबाद देते हुए देखे गए। जर्मनी के सदर मुक़ाम में तक़रीबन 2.5 लाख से ज़्यादा शायक़ीन को जश्न मनाते देखा गया जोकि सड़कों पर ना सिर्फ़ जोश-ओ-ख़ुरोश के साथ अपने मुल्क की कामयाबी का इज़हार कररहे थे बल्कि रक़्स भी कररहे थे।

मुख़्तलिफ़ मुक़ामात से अवाम जर्मनी के दारुल-हकूमत बर्लिन में टीम की कामयाबी का जश्न मनाने पहुंचे थे जिस में एक 35 साला बाइनका हाफ मैन भी शामिल हैं जिन्हों ने मीडिया नुमाइंदों से इज़हार-ए-ख़्याल करते हुए कहा कि आज सारी रात हम अपनी टीम का जश्न मनाएंगे।

शहर में मुख़्तलिफ़ मुक़ामात पर ट्रैफ़िक भी जाम रही लेकिन अवाम में मुल्क की कामयाबी के जश्न का जोश-ओ-ख़ुरोश वाज़िह नज़र आरहा था। 20 साला नौजवान का र्स्टन गलासर ने कहा कि बचपन से वो इस कामयाबी के मुंतज़िर थे क्योंकि टीम 24 साल् क़बल आख़िरी मर्तबा आलमी चैम्पिय‌न होने का एज़ाज़ हासिल किया था। याद रहे 1990 में आख़िरी मर्तबा जर्मनी ने इत्तिफ़ाक़ से अर्जनटीना को ही मात देकर वर्ल्ड कप हासिल किया था।

TOPPOPULARRECENT