Saturday , June 24 2017
Home / Khaas Khabar / जल्लीकट्टू: राष्ट्र विरोधी मामले में पुलिस कमिश्नर के खिलाफ़ कोर्ट जाएगी कैम्पस फ्रंट ऑफ इंडिया

जल्लीकट्टू: राष्ट्र विरोधी मामले में पुलिस कमिश्नर के खिलाफ़ कोर्ट जाएगी कैम्पस फ्रंट ऑफ इंडिया

द कैम्पस फ्रंट ऑफ इंडिया कोयंबटूर शहर के पुलिस आयुक्त ए. अमलराज के खिलाफ जिला अदालत में एक राष्ट्र विरोधी मामले में याचिका दायर करने की योजना बना रही है। संस्था ने राज्य सरकार से पुलिस आयुक्त के खिलाफ कार्यवाई करने की मांग की है और उन पर जल्लीकट्टू के समर्थन को हिंसक बनाने का अरोप लगया है।

वहीं मंगलवार को अमलराज ने संवाददाताओं को बताया कि पुलिस के पास इस बात के सबूत हैं कि द कैम्पस फ्रंट ऑफ इंडिया, मक्कल अतिगरम, नाम तमिल्ज़हार और अन्य असामाजिक संगठनों के सदस्यों ने मिलकर प्रदर्शनकारियों में घुसपैठ की और राष्ट्रविरोधी नारेबाजी की। उन्होंने कहा कि पुलिस ने भीड़ को हटाने की कोशिश कर रही था, लेकिन इन संगठनों के सदस्यों ने हिंसात्मक नारेबाजी करना शुरू कर दिया।

हालांकि द कैम्पस फ्रंट ऑफ इंडिया के राज्य महासचिव एल. अब्दुर रहमान का कहना है कि जब 17 जनवरी को यह प्रोटेस्ट शुरू हुआ उसी समय से उनकी संस्ता इसके साथ है। उन्होंने कहा, “हमलोग छात्रों के राइट और एजूकेशन के लिए बहुत पहले से लड़ते रहे हैं। हमलोग सामाजिक सेवा का कार्य करते है और रचनात्मक कार्यों से समाज सेवा करते हैं। हम समझ नहीं पा रहे है कि कमिश्नर कैसे हमें राष्ट्रविरोधी होने का आरोप लगा सकते हैं। क्या तमिल संस्कृति के लिए लड़ना राष्ट्र का विरोध है। क्या छात्रों की मदद करना राष्ट्रविरोध है।”

उन्होंने कहा कि छह दिन से कैम्पस फ्रांट के सदस्य वोक पार्क में रह रहे हैं। एक दिन पहले जब पुलिस जबर्दस्ती छात्रों को वहां से हटाने लगी तब प्रदर्शन हिंसक हो गया। अगर हम राष्ट्रविरोधी थे तो हम पर छह दिन पहले क्यों नहीं कार्यवाई किया गया।

एल. अब्दुर रहमान ने कहा, “हमारा संगठन इस तरह के बयान की निंदा करता है और हम कमिश्नर के खिलाफ कानूनी कार्रवाई करेगें। यह सिर्फ पुलिस के अत्याचारों से जनता का ध्यान हटाने के लिए किया जा रहा है। हमारे पास पुलिस के खिलाफ सुबूत है जिसमें पुलिस ऑटो रिक्शा में आग लगा रही और निर्दोष महिलाओं को पीट रही है। इन्हीं कारणों से यह प्रदर्शन हिंसक हुआ। हम राज्य सरकार से अनुरोध करते हैं कि अमलराज के खिलाफ हिंसा भड़काने और निर्दोश छात्रों पर लाठीचार्ज करने के लिए कार्यवाई करे।”

Top Stories

TOPPOPULARRECENT